आचार संहिता लागू होने से पहले बेरोजगारों के लिए अच्छी खबर

कमल नेगी, पोलखोल न्यूज़| 1/4/2017 1:02:40 AM
img

चुनाव आचार संहिता लागू होने से पहले प्रदेश के बेरोजगारों के लिए अच्छी खबर है| एक ओर बेरोजगारों के लिए 1767 पदों पर सीधी भर्ती की विज्ञप्ति जारी हो गई है तो दूसरी ओर अतिथि शिक्षकों का भविष्य अधर में लटक गया है| सबसे बड़ी मुश्किल अतिथि शिक्षकों के लिए खड़ी हो गई है, जिन्हें सरकार ने सहायक अध्यापक एलटी के पदों पर समायोजित करने का भरोसा दिया था| 30 दिसम्बर तक आयोग के पास विभिन्न विभागों से 5250 पदों को भरने के लिए अध्याचन पहुचे जिनमें से करीब 2887 पदों के लिए पहले ही विज्ञप्ति जारी हो चुकी है और 1007 पदों के चयन की प्रक्रिया पूरी की जा चुकी है| मंगलवार को आयोग ने विभिन्न विभागों के समूह ग और सहायक अध्यापक एलटी के पदों के लिए विज्ञप्ति जारी कर दी| कनिष्ठ सहायक -31, प्रयोगशाला सहायक-09, फोटोग्राफर-04, आबकारी सिपाही-52, प्रवर्तन सिपाही-75 सहायक लेखाकार-59, वैयक्तिक सहायक-28, डेन्टल हाईजिनिस्ट-39, सहायक अध्यापक एलटी (गढ़वाल)-696, सहायक अध्यापक एलटी (कुमाऊं)-518, निगम और बोर्ड के कुल पद-221, इसके अलावा भी आयोग ने कई विभागों के पदों के लिए सीधी भर्ती की विज्ञप्ति जारी कर दी है, आयोग ने आनलाइन आवेदन भरने की तिथि 12 जनवरी तय की है, 2 मार्च तक इन पदों के लिए आवेदन कर सकेंगे| विस्तृत जानकारी के लिए आयोग की वेबसाइट www.sssc.uk.gov.in पर ले सकते है| प्रदेश में आचार संहिता कभी भी लागू होने वाली है| आचार संहिता से पहले राज्य सरकार ने भर्ती का पिटारा खोल दिया है| बेरोजगारों को सौगात देते हुए उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ने मंगलवार को 1767 पदों पर भर्ती प्रक्रिया शुरु करने के लिए विज्ञप्ति जारी कर दी है| आयोग के चेयरमैन एस राजू ने कहा कि 1767 पदों की विज्ञप्ति जारी की जा रही है| विज्ञप्ति जारी होने से पहले शासन, शिक्षा निदेशालय और आयोग में अतिथि शिक्षकों को लेकर मंथन चलता रहा| शिक्षा विभाग ने आयोग में 1214 पदों के लिए पहले ही अध्याचन भेज दिया है| शासन के दबाव के बाद आखिरकार आयोग ने एलटी पदों को सीधी भर्ती से भरने की विज्ञप्ति जारी कर दी| आयोग के चेयरमैन ने बताया कि फिलहाल सभी पदों को भरने का फैसला लिया गया है| भविष्य में सरकार जो भी निर्णय लेगी उसे माना जाएगा।माध्यममिक शिक्षक अतिथि संघ के कोषाध्यक्ष महावीर चौहान कहते है कि सरकार ने गेस्ट टीचरों को आश्वासन दिया था कि अल्पकालिक भर्ती नियमावली के आधार पर करीब 6 हजार पदों पर भर्ती निकाली जाएगी| आचार संहिता लागू होने से पहले गेस्ट टीचर विज्ञप्ति जारी होने का इंतजार कर रहे है| गेस्ट टीचरों का मामला हाईकोर्ट में भी विचाराधीन है ऐसे में शिक्षा विभाग और सरकार के लिए अब ये प्रकरण गले की फांस बनता जा रहा है|

Advertisement

img
img