मृतकों की हुई पहचान, पिता ने जताई हत्या की आशंका

कमल नेगी, पोलखोल न्यूज़ 1/20/2017 11:09:11 PM
img

हरिद्वार-नजीबाबाद हाईवे पर कार व बाइक में रहस्यमयी परिस्थितियों में आग लगने के बाद मौके पर मिले दो शवों की पुलिस ने पहचान कर ली है। दोनों सगे भाई थी। मृतकों के पिता ने हत्या की आशंका जताते हुए जांच की मांग की है। नजीबाबाद हाईवे पर कांगड़ी ग्राम में बीती रात एक कार व बाइक पुलिस को जलती हुई हालत में मिले थे। जबकि बुरी तरह से जले हुए दो शव भी पुलिस ने बरामद किए थे। हालांकि उनकी पहचान नहीं हो सकी थी। देर रात पुलिस ने मृतकों की पहचान गांव गाजीवाली निवासी लेखपाल के पुत्रों अर्जुन व नीरज के रूप में की। पुलिस के मुताबिक गुरुवार दोपहर श्यामपुर थाना क्षेत्र के गांव से एक दस वर्षीय बालिका लापता हो गई थी। काफी खोजबीन के बाद बालिका के परिजन अर्जुन व नीरज के घर पहुंचे थे और बच्ची को को खोजने में सहयोग की मांग की थी। जिस पर अर्जुन उम्र 32 वर्ष, नीरज उम्र 21 वर्ष एवं अर्जुन का साला विष्णु निवासी ग्राम सीतापुर गौरीकुंड रुद्रप्रयाग एक ही बाइक पर बच्ची को खोजने के लिए निकले थे। बालिका को खोजते हुए तीनों चंडी चौक पुल तक आए। इसके बाद तीनों लौट रहे थे तभी हरिद्वार-बिजनौर मार्ग पर हादसे में दोनों भाइयों की ¨जदा जलकर जान चली गई थी। जबकि विष्णु छिटककर गिरने से गंभीर घायल हो गया था। इधर, शुक्रवार को जिला अस्पताल में मौजूद मृतकों के पिता लेखपाल ने अर्जुन व नीरज की हत्या होने का अंदेशा भी जताया। बताया कि दो साल पहले उनका पड़ोस में रहने वाले परिवार से विवाद हुआ था। पड़ोसी पक्ष ने लेखपाल, अर्जुन व नीरज समेत पांच पर छेड़छाड़ व मारपीट का मुकदमा दर्ज कराया था। कहा कि यह हादसा नहीं है। सवाल किया कि कार मालिक वहां से क्यों फरार हुआ। कहा कि बाइक व नीरज का शव काफी दूर था। लेखपाल के तीसरे पुत्र मनीष ने हत्या की बात से इन्कार नहीं किया है। मनीष ने बताया कि शुक्रवार की सुबह वह घटनास्थल पर गया था, जहां उसे कोई नहीं जानता था। बताया कि कुछ लोग आपस में बातचीत कर रहे थे, जिसमें यह जिक्र किया जा रहा था कि कार चालक ने दो बार जानबूझकर घायलों को टक्कर मारी। उधर, चंडी घाट स्थित श्मशान घाट पर दोनों भाइयों का अंतिम संस्कार किया गया। चौकी प्रभारी गंभीर तोमर ने घटना के वक्त विष्णु छिटककर घटनास्थल से दूर गिर गया था। इससे वह चोटिल हो गया था। विष्णु का जिला अस्पताल में उपचार चल रहा है। लेखपाल ने बताया कि विष्णु को पहले लोगों ने कार चालक समझकर पीट दिया था। बेहोशी की अवस्था में विष्णु को अस्पताल लाया गया। नीरज व अर्जुन के पिता लेखपाल होमगार्ड हैं। उनकी ड्यूटी इन दिनों यातायात पुलिस में लगी है। उनके चार पुत्र हैं। नीरज सबसे छोटा पुत्र था, जबकि अर्जुन दूसरे नंबर। सबसे बड़ा विवेक है, जबकि उसके बाद मनीष उर्फ कन्हैया है। लेखपाल ने बताया कि नीरज का विवाह अप्रैल में होना था। इसके लिए तैयारियां चल रही थी। वर्ष 2015 में नीरज का विवाह ऋषिकेश निवासी युवती से तय हुआ था। जबकि अर्जुन की दो बेटियां हैं जहानवी (5) व ईशू (2.5)। श्यामपुर पुलिस ने एक युवक को पकड़ा है। युवक ने खुद को सड़क दुर्घटना में जली कार का चालक बताया। एसओ श्यामपुर प्रदीप तोमर ने बताया कि युवक की मानसिक स्थिति ठीक नहीं है। उसके कपड़े फटे हैं, जबकि शरीर पर भी चोट के निशान हैं। युवक अपना नाम अलवर पुत्र इरशाद निवासी बेलड़ा नगला सहारनपुन उप्र बता रहा है। उसके पास से मिले नंबर से दोस्त से संपर्क किया गया है। दोस्त ने बताया कि उसकी मानसिक स्थिति सही नहीं है। बताया कि रात्रि में युवक ने ट्रकों व पेट्रोल पंप पर पत्थर मारे थे। जबकि थाने के बाहर पुलिस द्वारा पकड़े गए वाहनों पर भी उसने पत्थर फेंके थे। जिसमें शीशा टूटा है। बताया कि परिजनों के आने के बाद भी कुछ कहा जा सकेगा। कार का नंबर पूरी तरह जल चुका है। जिससे पता लगाना मुश्किल हो रहा है। खुद को कार का चालक बताने वाले युवक को उपचार दिलाने के लिए पुलिस उसे लेकर जिला अस्पताल पहुंची जहां युवक ने जमकर हंगामा किया। युवक ने आकस्मिक कक्ष में बैठे डॉ. केके करौली पर हमला कर दिया। किसी तरह उसे पकड़ा गया। इस दौरान उसने मेज पर रखे दो रजिस्टर फाड़ दिए। युवक को रस्सियों से वार्ड में बेड पर बांध दिया। पुलिस वहां तैनात की गई है।

Advertisement

img
img