नवजात के रोने से खराब हुई नींद तो तोड़ डाला मासूम का पैर

कमल नेगी, पोलखोल न्यूज़, रुड़की 2/5/2017 10:09:18 PM
img

एक नवजात के रोने से अस्पताल कर्मचारी की नींद खराब हुई तो उसने गुस्से में तीन दिन के बच्चे का पैर मरोड़कर तोड़ डाला| ये पूरी घटना सीसीटीवी फुटेज में कैद हो गई है| जानकारी के मुताबिक, रुड़की के एक निजी अस्पताल में वर्णिक नामक शख्स की पत्नी ने लड़के को जन्म दिया था| हालत नाजुक होने के कारण नवजात को आईसीयू में भर्ती कराया गया था| आईसीयू में रात को एक पुरुष कर्मचारी की ड्यूटी लगी रहती थी| हालत में सुधार न होने के कारण तीसरे दिन भी बच्चा आईसीयू में ही भर्ती रहा| घटना वाले दिन भी पुरुष कर्मचारी की ही ड्यूटी थी, जो रात में आईसीयू के अंदर ही सोया था| देर रात बच्चा रोने लगा तो कर्मचारी ने उठकर उसकी पीठ थपथपाई और उसे सुला दिया| इसके बाद कर्मचारी भी फिर से सो गया, लेकिन बच्चा फिर रोने लगा| नींद में बार-बार खलल पड़ने से कर्मचारी को गुस्सा आ गया और उसने नवजात का पैर पकड़कर उसे मरोड़ दिया, जिससे बच्चे की हड्डी टूट गई| दर्द से कराहता बच्चा लगातार रोता रहा तो कर्मचारी ने डॉक्टर को फोन किया| बाद में डॉक्टरों ने वर्णिक को उसके बच्चे की हालत ज्यादा खराब होने का हवाला देकर उसे देहरादून के बड़े अस्पताल ले जाने की सलाह दी| परेशान माता-पिता जब बच्चे को देहरादून के अस्पताल ले गए तो वहां उसके पैर के टूटे होने का खुलासा हुआ| नाराज वर्णिक ने वापस रुड़की के निजी अस्पताल पहुंचकर मामले की शिकायत की, लेकिन कार्रवाई करने की जगह अस्पताल प्रबंधन ने उनके साथ बदसलूकी की| आखिरकार वर्णिक ने घटना की शिकायत पुलिस में की| सीओ रुड़की, स्वप्र किशोर सिंह के मुताबिक, शिकायत के बाद कार्रवाई करते हुए पुलिस ने अस्पताल से सीसीटीवी फुटेज मांगे, जिसमें उन्हें पूरी घटना कैद मिली| पुलिस ने फुटेज के आधार पर आरोपी कर्मचारी और अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है|

Advertisement

img
img