नोटबंदी का सबसे बुरा असर गांवों पर देखने को मिल रहा: शरद पवार

विपुल अग्रवाल , पोलखोल न्यूज़ 2/18/2017 1:56:31 AM
img

नोटबंदी के फैसले को 100 दिनों से ज्यादा का समय हो चुका है, लेकिन अब भी यह मामला ठंडा होने का नाम ही नहीं ले रहा है। अब एनसीपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद पवार ने नोटबंदी के मुद्दे पर मोदी सरकार को घेरने की कोशिश की है। मुंबई में कॉन्फ्रेंस कर शरद पवार ने कहा कि नोटबंदी के फैसले से हर क्षेत्र प्रभावित हुआ है। शरद पवार ने कहा कि नोटबंदी के फैसले से छोटे-बड़े हर व्यवसाय पर असर पड़ा है। इधर रोजगार की गति भी कम हो गई है। मोदी सरकार के इस फैसले का सबसे बुरा असर गांवों पर देखने को मिल रहा है। पवार ने कहा, भाजपाई जिस पारदर्शिता की बात करते हैं, वह मुंबई के तल रहे उनके अभियान में साफ दिखाई दे रहा है। इनके कैंपेन में पानी की तरह पैसा बहाया जा रहा है| मोदी सरकार ने 8 नवंबर 2016 को नोटबंदी के तहत 500 और 1000 रुपये के मौजूदा नोटों को चलन से बाहर कर दिया था। इनकी जगह 500 और 2000 रुपये के नए नोट आरबीआइ द्वारा जारी किए गए। इसके बाद से सरकार डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए अनेक कदम उठा रही है।

Advertisement

img
img