बीजेपी योगी को सीएम बनाकर कर रही नफरत की राजनीति: विपक्ष

विपुल अग्रवाल, पोलखोल न्यूज़ 3/19/2017 12:30:37 AM
img

यूपी के 21वें सीएम के लिए योगी आदित्यनाथ के नाम की घोषणा होते ही एक तरफ जहां उनके समर्थकों ने जश्न मनाना शुरू कर दिया, वहीं विपक्ष के नेताओं ने इस फैसले पर पीएम मोदी और बीजेपी की कड़ी आलोचना भी की। कांग्रेस, आम आदमी पार्टी, तृणमूल कांग्रेस और माकपा जैसे दलों ने सोशल मीडिया और बयान जारी कर योगी को कट्टर हिंदुत्व का चेहरा और ध्रुवीकरण की राजनीति करने वाला बताया है। उन्होंने आगे कहा कि बीजेपी ने यूपी में किसी भी मुस्लिम को टिकट नहीं दिया इससे भी पूरी बात साफ हो जाती है। कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने भी ट्वीट कर योगी के सीएम बनने पर दुःख जाहिर किया। आप नेता संजय सिंह ने भी योगी के सीएम बनने पर कड़ी प्रतिक्रिया दी और ट्वीट कर कहा कि यूपी में अति पिछड़ा वर्ग का भारी समर्थन लेकर बीजेपी सत्ता में आयी, लेकिन सीएम के नाम पर ठेंगा दिखा दिया, योगी लाओ, नफ़रत फैलाओ, सबका साथ-सबका विकास। दूसरी तरफ तृणमूल कांग्रेस के सांसद सौगत राय ने कहा कि बीजेपी के पास बहुमत है और यह उनका विशेषाधिकार है कि वे किसे अपना मुख्यमंत्री चुनते हैं, लेकिन यह बिल्कुल स्पष्ट है, कि बीजेपी उत्तर प्रदेश में कट्टर हिंदुत्व की राजनीति करना चाहती है मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) की नेता वृंदा करात ने भी कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) उत्तर प्रदेश को हिंदुत्व परियोजना का केंद्र बनाना चाहता है। उनके सीएम के चयन से आरएसएस का एजेंडा स्पष्ट होता है, क्योंकि वे उत्तर प्रदेश को हिंदुत्व परियोजना का केंद्र बनाना चाहते हैं। वृंदा ने कहा कि अब विकास के बड़े-बड़े वादे गायब हो गए हैं और उन्होंने एक ऐसे व्यक्ति को चुना है जिसने नफरत फैलाने वाले भाषणों और सांप्रदायिक हिंसा के रास्ते पर चलकर राजनीति में प्रवेश किया है। एक ऐसे व्यक्ति को जिसके खिलाफ ढेरों आपराधिक मामले चल रहे हैं। ऐसा व्यक्ति मुख्यमंत्री बनने जा रहा है, यह उत्तर प्रदेश के लिए दुखद दिन है और पूरे देश के लिए दुखद है।

Advertisement

img
img