नोएडा पुलिस का दावा केन्याई छात्रा पर हमले की घटना फर्जी

विपुल अग्रवाल, पोलखोल न्यूज़ 3/29/2017 11:12:42 PM
img

नोएडा पुलिस ने इस मामले के पूरी तरह से फर्जी होने का दावा किया है। यूपी के ग्रेटर नोएडा में केन्या की छात्रा के साथ मारपीट मामले में नया मोड़ आ गया है। घटना की शिकायत के बाद पुलिस ने छात्रा को ले जाने वाले ओला कैब ड्राइवर को तलाश कर लिया और उसी ने पुलिस को सारी सच्चाई बता दी। जिसके बाद मामला फर्जी होने का खुलासा हो गया। नोएडा पुलिस के मुताबिक ओला कैब ड्राइवर ने पुलिस को बताया कि उसने केन्या की लड़की को उसके घर छोड़ा था। उस समय सोसायटी के बाहर पुलिस गश्त कर रही थी। ड्राइवर ने बताया कि लड़की से एक अफ्रीकन लड़का वहां मिलने भी आया था। अब पुलिस नए सिरे से मामले की जांच कर रही है। जबकि ग्रेटर नोएडा से खबर आई थी, कि केन्या की छात्रा पर हमला हुआ है। नॉलेज पार्क के पास छात्रा कैब से जा रही थी। कुछ अज्ञात लोगों ने उसे रोककर उसके साथ मारपीट की वारदात को अंजाम दिया। पीड़िता को अस्पताल ले जाया गया है, जहां इलाज चल रहा था। पुलिस तभी से मामले की जांच में जुटी थी, लेकिन कैब ड्राइवर के बयान से पूरा मामला खुल गया। अपनी शिकायत में केन्याई नागरिक ने आरोप लगाया कि यहां ओमिक्रॉन सेक्टर के समीप उस पर हमला किया गया। पुलिस उपाधीक्षक अभिनंदन ने कहा, केन्या की महिला ने बताया कि वह ओला कैब में यात्रा कर रही थी, तभी अज्ञात लोगों ने उसकी गाड़ी को रोका, उसे बाहर खींचा और उसके साथ मारपीट की। पीड़िता को यहां कैलाश अस्पताल ले जाया गया जहां से बाद में उसे छुट्टी दे दी गई। पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर ली है और दोषियों को गिरफ्तार करने के लिए खोज अभियान चलाया है। इससे पहले ग्रेटर नोएडा में अफ्रीकी छात्रों पर हमले के संबंध में पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया। इस घटना से अफ्रीकी छात्रों की सुरक्षा को लेकर चिंता पैदा हो गई और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को इस मामले में हस्तक्षेप करना पड़ा। अफ्रीकी छात्रों ने जान को खतरा बताते हुए, इस मामले में कार्रवाई की मांग की थी, जिसके बाद स्वराज ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बात की। ग्रेटर नोएडा निवासियों के एक समूह ने कथित तौर पर चार नाइजीरियाई छात्रों पर हमला कर दिया था। समूह ने एनएसजी ब्लैक कैट्स एन्क्लेव में गत सप्ताह कथित रूप से अधिक मात्रा में नशीला पदार्थ लेने से 17 वर्षीय लड़के मनीष की मौत के बाद कैंडल लाइट मार्च निकाला था।

Advertisement

img
img