घटिया गुणवत्ता का ट्रांसफार्मर खरीदने के मामले में मुख्य अभियंता समेत चार निलंबित

विपुल अग्रवाल, पोलखोल न्यूज़, देहरादून 4/1/2017 10:09:34 PM
img

पिटकुल के प्रबंध निदेशक एसएन वर्मा ने बताया कि वर्ष 2015 में आइएमपी कंपनी से झाझरा सब स्टेशन के लिए 80 एमवीए (मेगा वोल्ट एम्पीयर) के ट्रांसफार्मर की खरीद का अनुबंध हुआ था, जिसकी कीमत पांच करोड़ रुपये थी। मई 2016 में ट्रांसफार्मर आया, लेकिन यह खराब निकला। इस पर ट्रांसफार्मर कंपनी को वापस भेज दिया गया। घटिया गुणवत्ता का ट्रांसफार्मर खरीदने के मामले में पावर ट्रांसमिशन कार्पोरेशन ऑफ उत्तराखंड लिमिटेड (पिटकुल) के प्रबंध निदेशक ने मुख्य अभियंता समेत चार इंजीनियरों को निलंबित कर दिया है। एक मुख्य अभियंता का स्थानांतरण किया गया है। अभी कई अन्य अफसरों पर भी गाज गिरनी तय मानी जा रही है। जिस कंपनी से ट्रांसफार्मर खरीदा गया, उसके भी दस्तावेज खंगाले जा रहे हैं। पिछले माह मार्च में मरम्मत के बाद ट्रांसफार्मर वापस आया, क्षमता के अनुरूप लोड नहीं ले पाया। प्रबंध निदेशक ने बताया कि नियमानुसार ट्रांसफार्मर आने से पहले उसकी टेस्टिंग के लिए पिटकुल से अभियंताओं की टीम भेजी जाती है। उन्होंने बताया कि दोनों अभियंताओं की टीम ने टेस्टिंग में इसे पास किया। बावजूद इसके ट्रांसफार्मर खराब निकला। जांच में प्रथमदृष्ट्या सामने आया कि कर्तव्यों का निर्वहन ठीक से नहीं किया गया। इसलिए मुख्य अभियंता (परिचालन एवं अनुरक्षण) अजय अग्रवाल, अधीक्षण अभियंता (परिचालन एवं अनुरक्षण) राजेश गुप्ता, अधीक्षण अभियंता (400 केवी ऋषिकेश परिमंडल) राकेश कुमार, अधिशासी अभियंता (संबद्ध) लक्ष्मी प्रसाद पुरोहित को निलंबित कर दिया गया है। उस वक्त राकेश कुमार अधीक्षण अभियंता (गुणवत्ता एवं निरीक्षण) और लक्ष्मी प्रसाद झाझरा सब स्टेशन के एसडीओ थे। वर्मा ने बताया कि जांच प्रभावित न हो इसलिए मुख्य अभियंता (क्रय एवं अनुबंध) अनिल कुमार यादव को हल्द्वानी ट्रांसफर किया गया है। वर्ष 2015 में कुल 24 करोड़ रुपये के चार ट्रांसफार्मर के लिए कंपनी से अनुबंध हुआ था। इसमें 50 एमवीए का ट्रांसफार्मर चंबा, 160 एमवीए का ऋषिकेश और 80 एमवीए के दो ट्रांसफार्मर झाझरा के लिए खरीदे गए। इनमें से चंबा और झाझरा में एक-एक ट्रांसफार्मर स्थापित हो चुका है।

Advertisement

img
img