उत्तराखंड में अवैध बूचड़खानों के खिलाफ कार्रवाई शुरू

विपुल अग्रवाल, पोलखोल न्यूज़, देहरादून 4/8/2017 10:07:39 PM
img

उत्तर प्रदेश के बाद उत्तराखंड सरकार ने भी बूचड़खानों पर कार्रवाई शुरू कर दी है। पुलिस, प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग और खाद्य सुरक्षा विभाग की संयुक्त टीम ने जिले में अवैध रूप से संचालित हो रहे बूचड़खानों पर कार्रवाई की। अलग-अलग स्थानों पर एक साथ की गई कार्रवाई में सात बूचड़खानों का चालान कर कई टन मांस नष्ट किया गया। इनके संचालकों को अपना पक्ष रखने के लिए तीन दिन का समय दिया गया है। इसके बाद इनके खिलाफ खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम के अंतर्गत एफआइआर व अन्य कार्रवाई की जाएगी। प्रदेश में अवैध रूप से तमाम बूचड़खाने संचालित हो रहे हैं। पुलिस और प्रशासन के साथ ही खाद्य विभाग को इनकी लगातार शिकायत मिल रही थी। इसके बावजूद भी कोई विभाग इनके खिलाफ कार्रवाई की हिम्मत नहीं जुटा पा रहा था। पिछले दिनों उत्तर प्रदेश में अवैध बूचड़खानों पर कार्रवाई शुरू हुई तो इसे लेकर उत्तराखंड में भी सुगबुगाहट होने लगी थी। इसी क्रम में कल देहरादून में अवैध बूचडख़ानों के खिलाए तंत्र सड़क पर उतरा। इस दौरान एडीएम हरबीर सिंह, एसपी सिटी अजय सिंह, सीओ सिटी चंद्र मोहन सिंह, प्रभारी निरीक्षक कोतवाली डीएस रावत, नगर निगम के मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ. वी. सती व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने इनामुल्ला बिल्डिंग क्षेत्र में चार बूचड़खानों को नोटिस देकर दो लाख का चालान किया। पटेलनगर क्षेत्र में एएसपी लोकेश्वर सिंह और खाद्य सुरक्षा अधिकारी अनोज थपलियाल के नेतृत्व में दूसरी टीम ने ब्रह्मपुरी, लोहिया नगर और मुस्लिम कॉलोनी में छापेमारी की। इस दौरान मुस्लिम कॉलोनी में दो बूचडख़ानों का चालान किया गया। एक अन्य टीम ने चुक्खूवाला में एक बूचड़खाने पर कार्रवाई करते हुए उसका चालान किया। अभिहित अधिकारी अनोज थपलियाल ने बताया कि जिन बूचडख़ानों पर कार्रवाई की गई, उनमें से किसी के भी पास न तो खाद्य सुरक्षा विभाग का लाइसेंस मिला और न ही प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की एनओसी। बूचड़खानों में सफाई भी संतोषजनक नहीं थी। इन्हें दस्तावेज प्रस्तुत करने को तीन दिन दिए गए हैं। इसके बाद इनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। इस संबंध में सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत का कहना है, कि पशु कटान से रक्त नालियों में बहता है। इससे बीमारियों का खतरा बढ़ता है। मैनें सुबह से ही मामले की मॉनीटरिंग की और एसएसपी देहरादून से पूरे मामले की रिपोर्ट मंगाई है। प्रदेश के सभी बूचड़खानों का परीक्षण कराया जाएगा।

Advertisement

img
img