प्रदेश में डॉक्टरों की कमी पर पक्ष-विपक्ष के एक सुर

कमल नेगी, पोलखोल न्यूज़, देहरादून 5/1/2017 10:41:23 PM
img


उत्तराखंड विधानसभा के दो दिवसीय सत्र के पहले दिन ही सदन में डॉक्टरों की कमी का मसला जोरदार ढंग से उठा| विपक्ष के सदस्यों के साथ सत्ता पक्ष के सदस्यों ने भी सरकार से सवाल किए| सवालों के जवाब में सरकार ने भी माना कि प्रदेश में डॉक्टरों की भारी कमी है| सरकार ने सदन को विश्वास दिलाया कि सरकार जल्द ही यह कमी दूर करेगी| सरकार ने अपने जवाब में कहा कि राज्य में पीपीपी मोड के अस्पतालों में जो बेहतर सुविधाएं नहीं दे रहे थे, उन्हें टर्मिनेट भी किया गया है| संसदीय कार्य मंत्री प्रकाश पंत ने कहा कि सरकार प्रत्येक माह पीपीपी मोड पर चल रहे अस्पतालों का निरीक्षण करती है और जो सही काम नहीं कर रहे हैं उनके फंड में कटौती भी कर रही है| सदन की बैठक शुरू होते ही नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश ने एपीएल के राशन में गेहूं और चावल के दाम बढ़ाने का मुद्दा उठाया| इसको लेकर विधानसभा अध्यक्ष ने नियम 58 के तहत चर्चा कराने पर सहमति जताई| सरकार ने जीएसटी बिल (उत्तराखंड माल और सेवा कर विधेयक ) 2017 और उत्तराखंड आकस्मिकता निधि अधिनियम ( संशोधन) विधेयक 2017 को सदन के पटल पर रखा| सरकार ने उत्तराखंड सहकारी समिति ( संशोधन ) विधेयक 2017 को पारित भी कर दिया|

Advertisement

img
img