सरकारी कार्यालयों में डीएम का छापा, अधिकारी और कर्मचारी मिले गायब

कमल नेगी, पोलखोल न्यूज़, उत्तरकाशी 5/1/2017 10:55:12 PM
img


जिला प्रशासन की टीम ने जिले भर के कार्यालयों में औचक निरीक्षण किया। इस दौरान 100 अधिकारी और कर्मचारी गायब मिले। सबसे अधिक अनुपस्थित कर्मचारी पुरोला तहसील में मिले। जिलाधिकारी डॉ. आशीष श्रीवास्तव ने इसे गंभीर मामला बताते हुए अनुपस्थित कर्मचारियों का वेतन रोकने के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा सभी से स्पष्टीकरण मांगा है। संतोषजनक जवाब न मिलने पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। जिलाधिकारी डॉ. आशीष श्रीवास्तव ने एडीएम व एसडीएम को औचक निरीक्षण के निर्देश जारी किए। जिलाधिकारी स्वयं भी औचक निरीक्षण पर निकले। उन्होंने मुख्य शिक्षाधिकारी कार्यालय में निरीक्षण किया। यहां वैयक्तिक सहायक अनुपस्थित मिला। इसके बाद विकास भवन पहुंचे, जहां विभाग के पेंशन पटल पर दो कर्मचारी अनुपस्थित मिले। सहकारी समिति में एआर कॉपरेटिव, मुख्य कृषि कार्यालय में सहायक अभियंता, वित्त एवं विकास निगम में प्रधान सहायक व सहायक लेखाकार, ग्रामीण अभियंत्रण विभाग में दो कर्मचारी, जिला पंचायती राज कार्यालय में एक कर्मचारी, उरेडा में डाटा इंट्री आपरेटर, तकनीकी सहायक सहित तीन कर्मचारी अनुपस्थित पाए गए। अपर जिलाधिकारी पीएल शाह ने जिला पूर्ति अधिकारी कार्यालय, ऊर्जा निगम, जल संस्थान, जिला पंचायत एवं युवा कल्याण आदि विभागों का औचक निरीक्षण किया। पूर्ति कार्यालय में वरिष्ठ सहायक एवं अनुसेवक अनुपस्थित पाए गए। वहीं एक कर्मचारी को अवकाश पर होना बताया, लेकिन अवकाश से संबंधित प्रार्थना प्रस्तुत नहीं किया। ऊर्जा निगम कार्यालय के औचक निरीक्षण के दौरान लेखाकार एवं सहायक लेखाकार, तीन कार्यालय सहायक एवं तीन उपनल कर्मचारी अनुपस्थित पाए गए। वहीं उप खण्ड कार्यालय में एक टेक्निकल ग्रेड एवं एक उपनलकर्मी अनुपस्थित पाए गए। जल संस्थान में अधिशासी अभियंता बिना किसी अनुमति के कार्यालय अनुपस्थित पाए गए। वहीं एक अनुसेवक भी अनुपस्थित पाया गया। रात्रि चौकीदार के उपस्थिति पंजिका पर हस्ताक्षर न करने पर संबंधित कर्मचारी का स्पष्टीकरण लेने के निर्देश दिए। जिला पंचायत में कार्यालय लेखाकार एवं अवर अभियंता अनुपस्थित मिले। पुरोला में एसडीएम शैलेंद्र सिंह नेगी ने पीएमजीएसवाइ, लोनिवि, सिचांई खंड, वन निगम, जलागम, उद्योग विभाग, आजीविका, बाल विकास व खंड विकास कार्यालय में 47 अधिकारी कर्मचारी साढ़े दस बजे तक भी कार्यालय नहीं पहुंचे थे। बड़कोट में एसडीएम रोहित मीणा ने निरीक्षण किया तो आठ कर्मचारी व अधिकारी अनुपस्थित मिले। डुंडा तहसील में सौरभ असवाल ने निरीक्षण किया तो यहां 15 अधिकारी कर्मचारी गायब मिले। भटवाड़ी तहसील में नितिका खंडेलवाल ने औचक निरीक्षण किया, जिसमें तीन कर्मचारी गायब मिले।

Advertisement

img
img