कैबिनेट मंत्री हरक के बयान से हडकंप

भास्कर जोशी, पोलखोल न्यूज़ 5/15/2017 10:33:31 PM
img

कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शाम‌िल हुए इस नेता ने एक बयान देकर तहलका मचा द‌िया। उन्होंने एक ऐसी बात कह दी ज‌िससे बीजेपी एक तरफ जहां कुछ असज हो गई तो दूसरी और सब नेता हैरानी में पड़ गए। दरअसल अपने सबसे कट्टर राजनीतिक दुश्मन पूर्व सीएम हरीश रावत को विकास करने में सक्षम बताकर कैबिनेट मंत्री डा. हरक सिंह रावत ने राजनीतिक माहौल गरमा दिया। उन्होंने कहा कि भले ही हरीश रावत से उनके मतभेद रहे हों, लेकिन यह कहने में उन्हें कोई हर्ज नहीं कि वे जमीन से जुडे़ राजनेता रहे हैं। पिछले साल हरीश रावत सरकार के तख्ता पलट के सूत्रधारों में से एक डा. हरक सिंह रावत के इस बयान के राजनीतिक निहितार्थ निकाले जा रहे हैं। पूर्व सीएम डा. रमेश पोखरियाल निशंक की तारीफ करने में भी वह नहीं चूके और कहा कि वह काफी कम उम्र में मुख्यमंत्री बन गए थे। वह भी राज्य का विकास कर सकते थे, लेकिन नहीं कर पाए। वन एवं पर्यावरण मंत्री डा. रावत ने राज्य बनने के बाद की स्थिति को सामने रखते हुए नौकरशाही की भूमिका को खास अंदाज में  रेखांकित किया। वह कहने से नहीं चूके कि सर-सर करके नौकरशाही ने सरकारों को सरकाया है। त्रिवेंद्र सरकार में कैबिनेट मंत्री बनने के बाद ये पहला मौका है, जब डा. हरक सिंह रावत अपने बयान के कारण सुर्खियों में आ गए। इस क्रम में वह ये भी बोल गए कि आज जिस तरह से राज्य का विकास नहीं हुआ है, उसमें ये सवाल उठ रहा है कि क्या उत्तराखंड राज्य की मांग करके लोगों ने सहीं किया है या गलत। इन स्थितियों के बीच, अचानक से हरीश रावत के प्रति नरम रुख सामने रखकर डा. हरक सिंह रावत ने बीजेपी के नेताओं को भी चौंका दिया है। हालांकि खुलकर कोई प्रतिक्रिया देने के लिए तैयार नहीं है। इस मामले ने जब तूल पकड़ा तो, मीडिया से बातचीत में डा. हरक सिंह रावत ने यथासंभव सफाई दी। उन्होंने कहा कि हरीश रावत का ब्लाक प्रमुख से लेकर सीएम तक का करियर रहा है। इस लिहाज से बेहद अनुभवी हरीश रावत से विकास की उम्मीद की जा रही थी।  वैसे माना ये भी जा रहा है कि डा. हरक सिंह रावत अपनी घर वापसी के बाद बीजेपी में बहुत सहज नहीं हैं। उनके ताजा बयानों को बीजेपी नेतृत्व को आइना दिखाने से भी जोड़ा जा रहा है। तल्खियों का संबंध सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के साथ भी तलाशा जा रहा है। 

    Advertisement

    img
    img