मेरी और मेरे पिता के काम करने की शैली अलग-अलग : टाइगर

पोलखोल न्यूज़ 7/8/2017 3:43:28 AM
img

अभिनेता टाइगर श्रॉफ का कहना है कि उनके पिता जैकी श्रॉफ का मुंबई के चॉल से लेकर स्टारडम तक का सफर न सिर्फ उन्हें प्रेरित करता है, बल्कि जमीन से जुड़े रहना भी सिखाता है. हालांकि उनका मानना है कि वह कभी भी अपने पिता की तरह बिंदास नहीं बन सकते. टाइगर ने मुंबई से फोन पर आईएएनएस को बताया, मेरे पिता बचपन से ही मेरी देखभाल करते आ रहे हैं. उन्होंने मुझे बेहद खुशनुमा बचपन दिया. मैं जानता हूं कि वह किस पृष्ठभूमि से आए हैं. मेरे पिता तीन बत्ती इलाके में एक चॉल में रहा करते थे. उन्हें वहां से यहां का सफर तय करते देखना मुझे कड़ी मेहनत करने और अपने परिवार के लिए शानदार काम करने को प्रेरित करता है. टाइगर ने पिता से पेशेवराना सलाह लिए जाने के बारे में पूछने पर कहा, नहीं, मैं उनसे अपने करियर को लेकर सलाह नहीं करता, क्योंकि काम करने की उनकी और मेरी शैली अलग-अलग है. वह सबकुछ बिंदास तरीके से करते हैं और मैं उनकी तरह बिंदास नहीं बन सकता. कॉरपोरेट सामाजिक जवाबदेही कार्यक्रम पी एंड जी शिक्षा के तहत पिछले सप्ताह शिक्षा सुपरहीरोज अभियान के लिए हाथ मिलाने वाले टाइगर ने बताया कि उनके पिता का संघर्ष उन्हें वास्तविकताओं से परिचित कराता है और उन्हें जमीन से जोड़े रखता है. जैकी ने 1982 में फिल्म स्वामी दादा से अभिनय की दुनिया में कदम रखा था, वहीं उनके बेटे टाइगर ने 2014 में फिल्म हीरोपंती से आगाज किया. टाइगर की झोली में फिलहाल हॉलीवुड फिल्म रैम्बो की रीमेक और मुन्ना माइकल, स्टूडेंट ऑफ द ईयर-2 व बागी-2 जैसी फिल्में हैं.

Advertisement

img
img