विजिलेंस टीम ने एसडीएम कार्यालय के लिपिक को रिश्‍वत लेते रंगे हाथो दबोचा

पोलखोल न्यूज़, रूड़की 9/8/2017 2:46:36 AM
img

मंदिर को सुरक्षित बनाने की एएसआई की कोशिशों पर तीर्थ पुरोहित समाज ने फिर अड़ंगा लगा दिया है| आर्किलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया यानि एएसआई आकाशीय बिजली के खतरे से मंदिर को सुरक्षित रखने के लिए मंदिर के गुंबद पर तड़ित चालक लगाना चाहती है| लेकिन केदारनाथ मंदिर के तीर्थ पुरोहितों का कहना है कि वह मंदिर में तड़ित चालक (lightning conductor) नहीं लगने देंगे| तीर्थ पुरोहितों का कहना है कि मंदिर का गुंबद, कलश और बाबा केदार का त्रिशूल अपने आप ही बिजली को रोकने में सक्षम है| गुरुवार को एएसआई की टीम मंदिर पर तड़ित चालक लगाने पहुंची तो तीर्थ पुरोहितों उसे रोक दिया और ऐलान कर दिया कि मंदिर पर कोई उपकरण नहीं लगने दिया जाएगा| देहरादून में एएसआई की सुपरिटेंडेंट आर्किलॉजिस्ट लिली धस्माना का कहना है कि तड़ित चालक मंदिर की सुरक्षा के लिए लगाया जाना जरूरी है और उन्होंने इस मसले को लेकर रूद्रप्रयाग के डीएम से बात की है| उन्होंने कहा कि स्थानीय लोग बात नहीं समझ रहे हैं| पुरातात्विक महत्व की सभी पुरानी इमारतों में यह उपकरण लगाया जाता है ताकि उसे की नुक़सान न हो| धस्माना के अनुसार ताजमहल और कुतुबमीनार में भी यह उपकरण लगाया गया है|

Advertisement

img
img