सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस पर अमित शाह ने साधा निशाना

पोलखोल न्यूज़, नई दिल्ली 9/12/2017 10:46:51 PM
img

पश्चिम बंगाल में पार्टी कार्यकर्ताओं पर लगातार हो रहे हमले व राजनीतिक हिंसा पर सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस को आ़़डे हाथों लेते हुए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि ऐसी हिंसा दुनिया में कहीं नहीं देखी गई है। अमित शाह ने कोलकाता में बारासात, बशीरहाट, बीरभूम आदि जगहों पर हुई हिंसा के पीडि़त लोगों से मुलाकात के बाद पश्चिम बंगाल में हुई हिंसा को मानवाधिकार का उल्लंघन करार देते हुए मानवाधिकार संगठनों को भी इस मुद्दे पर रिपोर्ट करने की अपील की। 100 से अधिक पीडि़त भाजपा कार्यकर्ता दूर गांवों से पार्टी अध्यक्ष से मिलने आईसीसीआर [इंडियन काउंसिल फॉर कल्चरल रिलेशंस] पहुंचे थे। उनमें किसी को गर्दन में तो किसी को पैर और किसी की आंखों में चोट थी। मीडिया से बात करते हुए अमित शाह ने कहा कि तृणमूल कार्यकर्ताओं के हमले में कई लोग मारे गए और कई घायल हो गए। ये सब इसलिए हुआ क्योंकि इन्होंने तृणमूल की विचारधारा का समर्थन नहीं किया। शाह ने कहा कि मैं यहां के लोगों से पूछना चाहता हूं कि क्या यही टैगोर का बंगाल है? क्या यही स्वामी विवेकानंद का बंगाल है? यहां तृणमूल के अलावा किसी भी अन्य पार्टी को कुछ भी करने की स्वतंत्रता नहीं है। पश्चिम बंगाल को केंद्रीय अनुदान से वंचित किए जाने का बार-बार आरोप लगाने वाली मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर पलटवार करते हुए अमित शाह ने कहा कि केंद्र की तरफ से पश्चिम बंगाल के लिए अनुदान ब़़ढाकर 38,732 करो़ड रुपए किया गया है, जिसका कोई हिसाब नहीं है। वे रुपए कहां गए? दरअसल वे रुपए सिंडिकेट में खत्म हो गए। आईसीसीआर के सभागार में बुद्धिजीवियों के साथ बैठक में शाह ने कहा कि पश्चिम बंगाल के लोगों के लिए अपना स्वभाव बदलने का समय आ गया है। पहले उन्होंने 34 वर्षो तक वाममोर्चा को सत्ता में रखा और फिर परिवर्तन की उम्मीद से तृणमूल को मौका दिया। पिछले सात वषर्षो से पश्चिम बंगाल में क्या परिर्वतन हुआ है? सिर्फ रंग बदला है। राज्य में दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के लिए अदालत की अनुमति लेनी प़़डती है। सरस्वती पूजा करने से रोका जाता है।भाजपा अध्यक्ष ने अपनी पार्टी की केंद्र सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि तीन वषर्षो में महंगाई घटी है। वित्तीय घाटा भी कम हुआ है। हम आज दुनिया की सबसे तेजी से उभरती अर्थव्यवस्था हैं। 2022 तक देश में ऐसा एक भी घर नहीं होगा, जहां शौचालय नहीं होगा। नरेंद्र मोदी सरकार ने तीन वर्षो में सा़़ढे चार करो़़ड शौचालयों का निर्माण कराया है। अमित शाह ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर भी तंज कसा। उन्होंने कहा कि भाजपा ने वंशवादी राजनीति को खत्म कर देश में परफॉर्मेस की राजनीति के एक नए युग की शुरआत की है। कुछ विफल नेता अमेरिका लेक्चर देने जाते हैं, क्योंकि घर में उन्हें सुनने वाला कोई नहीं है। रोहिंग्या संकट पर देश भर में जारी बहस के बीच अमित शाह ने इस पर ब़़डा बयान दिया। दौरे के दूसरे दिन मंगलवार को यहां बुद्धिजीवियों के साथ बैठक में शरणार्थियों के बारे में नीति से जु़डे एक सवाल के जवाब में शाह ने कहा कि घुसपैठियों और शरणार्थियों में अंतर है। जो लोग अपनी पहचान खो कर शरणार्थी बने हैं, उसके लिए हमलोग व्यवस्था कर रहे हैं। लेकिन घुसपैठियों के साथ हम कोई रियायत नहीं बरतेंगे।

Advertisement

img
img