विनती करने की साम्राज्यवादी सोच को छोड़ दें: वेंकैया नायडू

पोलखोल न्यूज़, नई दिल्ली 12/29/2017 3:55:40 AM
img

राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने आज मंत्रियों को फिर यह सुझाव दिया कि वे सरकारी दस्तावेजों को सदन के पटल पर रखते समय विनती शब्द का प्रयोग न करें|  नायडू ने कहा,  कृपया विनती मत करिए|  आमतौर पर मंत्री सदन के पटल पर सरकारी दस्तावेज रखते समय कहते हैं,  मैं आज की कार्यसूची में मेरे नाम के समक्ष लिखे दस्तावेजों को सदन के पटल पर रखने की विनती करता हूं| नायडु ने वर्तमान शीतकालीन सत्र शुरू होने के पहले ही दिन मंत्रियों को विनती करने की साम्राज्यवादी सोच को छोड़ देने की सलाह दी थी|  उपराष्ट्रपति नायडू ने कहा था, मंत्री कह सकते हैं,  मेरे नाम के समक्ष उल्लिखित दस्तावेज सदन के पटल पर रखने के लिए मैं खड़ा हुआ हूं| बहरहाल, आज जब विधि राज्य मंत्री पी पी चौधरी ने दस्तावेज रखते समय निवेदन शब्द का इस्तेमाल किया तो उन्होंने अपने सुझाव की याद दिलाई| नायडु ने चौधरी से कहा, कृपया विनती मत करिए| साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि हो सकता है कि जब पहले उन्होंने यह सुझाव दिया हो तो चौधरी सदन में उपस्थित नहीं रहे हों|  बाद में जब चौधरी ने अन्य दस्तावेज सदन के पटल पर रखे तो उन्होंने इस शब्द का प्रयोग नहीं किया.नायडु ने कल प्रश्नकाल के दौरान हुए एक प्रसंग का उल्लेख किया जिसमें कांग्रेस के बी के हरिप्रसाद ने कोई टिप्पणी की थी|  सभापति ने कहा कि उन्होंने इस मामले पर विराम लगाने का निर्णय किया है क्योंकि संबंधित सदस्य ने शुक्रवार सुबह उनसे मुलाकात कर कहा कि उनकी टिप्पणी तात्कालिक उत्तेजना के कारण निकल गयी और वह आसन का बहुत सम्मान करते हैं| हरिप्रसाद की टिप्पणी का कल सदन की कार्यवाही में कोई उल्लेख नहीं किया गया है|  इससे पहले सदन की कार्यवाही शुरू होने पर नायडु ने रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा स्वदेशी तकनीक से विकसित एडवांस एरिया डिफेंस (आड) खोजी मिसाइल के कल (गुरुवार) सफल परीक्षण पर संगठन के वैज्ञानिकों को सदन की ओर से बधाई दी|  नायडु ने इसे रक्षा अनुसंधान के क्षेत्र में डीआरडीओ की अहम उपलब्धि बताते हुये वैज्ञानिकों से सफलता के सिलसिले को जारी रखने की कामना की| 

Advertisement

img
img