मुख्तार की एंजियोग्राफी में नहीं मिला कोई ब्लॉकेज

पोलखोल न्यूज़, लखनऊ 1/10/2018 1:08:54 AM
img

पीजीआइ में भर्ती विधायक मुख्तार अंसारी की रात में ही एंजियोग्राफी की गई जिसमें उन्हें किसी प्रकार का कोई ब्लॉकेज नहीं मिला है। जिसके बाद उनकी देखरेख कर रहे डॉ पीके गोयल ने उन्हें आईसीयू से सामान्य प्राईवेट वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया है। बता दें कि बांदा जेल में बंद मुख्तार को दिल का दौरा पड़ने पर पीजीआई में भर्ती कराया गया था। डॉ पीके गोयल ने बताया है कि फिलहाल उनकी हालत समान्य है और उन्हें प्राइवेट वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया है। उन्हें क्या बीमारी थी और इंजियो ग्राफी में क्या निकला है यह बात पीजीअाई के डायरेक्टर ही सही तरह से बता सकते हैं। भाजपा विधायक कृष्णानंद राय की हत्या के मामले में जेल में बंद बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी को कल बांदा जिला जेल हार्ट अटैक पड़ गया था। इस दौरान उनसे मुलाकात करने आई उनकी पत्नी को भी हार्ट अटैक आ गया। विधायक के साथ उनकी पत्नी को गंभीर अवस्था दोनों को गंभीर अवस्था में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। इसके बाद दोनों को लखनऊ रेफर किया गया है। करीब पांच सौ समर्थक और सुरक्षा के खास तामाझामा के साथ मुख्तार अंसारी लखनऊ एसजीपीजीआइ पहुंचे थे। कार्डियक एक्सपर्ट डॉ पीके गोयल उनका इलाज कर रहे हैं। बुधवार सुबह पीजीआइ में भर्ती विधायक मुख्तार अंसारी की एंजियोग्राफी कराई गई। जिसमें उनके कोई ब्लॉकेज नहीं मिला। जिसके बाद उन्हें आईसीयू से वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया।

 भारी सुरक्षा के साथ लखनऊ  रेफर

विधायक मुख्तार अंसारी और उनकी पत्नी को लखनऊ रेफर किया गया। इसके पहले ख़बरें आ रही थीं कि उनके कानपुर भेजा जा रहा है। सुरक्षा कारणों से स्थिति को लेकर संशय बना रहा। पीछे उनके मिलने वालों की दो गाड़ियां भी हैं। साथ में पुलिस जीप व वज्र वाहन। उन्हें लॉरी कार्डियोलॉजी (लखनऊ मेडिकल कॉलेज की ह्रदय रोग इकाई) भेजा गया है। मुख्तार अंसारी व उनकी पत्नी आफसा को अलग-अलग दो एम्बुलेंस से लखनऊ रवाना किया गया। एक सीओ, 2 एसआई व पुलिस बल के साथ हैं। आज मुख्तार को दिल का दौरा पड़ा था।मिलाई के दौरान उनकी पत्नी को भी सदमा लगा था।

जेल के बाहर जुटे समर्थक

जैसे यह खबर बाहर आई तो अस्पताल में उनके समर्थकों का जमावड़ा लग गया। जिले के तमाम आला अधिकारी भी अस्पताल पहुंच गए। मुख्तार अंसारी पूर्वांचल के बाहुबली नेता माने जाते हैं. कई बार विधायक रह चुके हैं। कौमी एकता दल नाम से उन्होंने आंचलिक पार्टी बनाई है। फिलहाल वह बहुजन समाज पार्टी से मऊ सदर से विधायक हैं। बांदा जिला कारागार में बंद मुख्तार अंसारी की तबीयत बिगड़ गई है। इसके बाद उनको जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। आज सुबह उनसे मिलने आई पत्नी की भी तबीयत खराब हो गई है। दोनों को एक ही डॉक्टर के अंडर में रखा गया है। मुख्तार के साथ ही उनकी पत्नी को बीपी की समस्या है। डॉक्टर का कहना है कि मुख्तार अंसारी को पहले से ब्लड शुगर के साथ ही हार्ट में दिक्कत थी। बांदा जिला जेल में बंद मुख्तार अंसारी की तबियत अचानक बिगडऩे के बाद उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मुख्तार की पत्नी को भी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मुख्तार अंसारी ने कल रात का खाना खाने के बाद ही तबीयत खराब होने की बात कही थी। जेल में ही उनकी तबीयत खराब हो गई थी। एडीजी ला एंड आर्डर ने कहा कि हमको सूचना मिली है कि विधायक मुख्तार अंसारी को बांदा जेल से चिकित्सा के लिए लखनऊ या किसी अन्य शहर में रेफर किया गया है। उनकी सुरक्षा की पूरी जिम्मेदारी हमारी है। हम उनको हर स्तर की सुरक्षा मुहैया कराएंगे। ससे पहले लखनऊ जेल से माफिया मुख्तार अंसारी को बांदा जेल भेजा गया था। बांदा जिला जेल भेजे जाने के कारण भी मुख्तार चर्चा में रहे थे। बाहुबली मुख्तार अंसारी बसपा के विधायक हैं। मुख्तार अंसारी ने जेल में रहते हुए ही विधानसभा चुनाव लड़ा था। मुख्तार अंसारी मौजूदा समय में मऊ सदर सीट से विधायक भी हैं। लखनऊ जेल से माफिया मुख्तार अंसारी को जब बांदा जेल शिफ्ट किया गया था, तब उन्होंने साजिश की ओर इशारा किया था। मुख्तार अंसारी ने कहा था कि केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा उन्हें जान से मारने की साजिश कर रहे हैं। मुख्तार अंसारी ने ललितपुर जाने को अपनी जान के लिए खतरा बताया। था। सीधे तौर पर कहा कि उनको मारने की साजिश की जा रही है। वह अंसारी चाहते थे कि उन्हें आगरा जेल भेज दिया जाए लेकिन आखिर में उन्हें बांदा भेजा गया था। तमाम उठापटक के बाद बसपा के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी को बांदा जेल शिफ्ट किया गया था। इसके बाद बांदा के डीएम ने उनकी सुरक्षा व्यवस्था को लेकर चिंता जताई थी। पत्र लिखकर कहा था कि मुख्तार अंसारी की सुरक्षा को लेकर आश्वस्त नहीं है फिर भी अंसारी को बांदा शिफ्ट किया था।

विधानसभा के शीतकालीन सत्र के चलते बांदा से मुख्तार अंसारी को उन्नाव जिला जेल में रखा गया था। बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी की सुरक्षा के दृष्टिकोण से उन्नाव के जिला जज के साथ डीएम और एसपी ने भी जिला जेल का निरीक्षण किया था। इस दौरान बंदी को वहां से हटाया गया था। मुख्तार अंसारी को 22 दिसंबर उन्नाव जिला जेल में रखा गया था।

जेल में बंद मुख्तार अंसारी का कम नहीं हुआ सियासी रसूख

पूर्वी उत्तर प्रदेश की सियासत के एक बड़े बाहुबली मुख्तार अंसारी की राजनीतिक ताकत लंबे समय से जेल में बंद रहने के बाद भी फीकी नहीं पड़ी है। भाजपा विधायक कृष्णानंद राय की हत्या के आरोप में मुख्तार अंसारी 13 वर्ष से जेल में बंद हैं। इसके बावजूद पूर्वांचल के मऊ और गाजीपुर में उनका सियासी वर्चस्व कम नहीं हुआ है। जेल में रहते हुए वो कई बार विधायक बने हैं। 2017 के विधानसभा चुनाव में मुख्तार अंसारी के अलावा उनके बेटे और भाई भी उतरे लेकिन उनके अलावा कोई दूसरा नहीं जीत सका। फिलहाल उनके  बड़े बेटे अब्बास अंसारी पिता की सियासी विरासत संभाल रहे हैं। उत्तर प्रदेश के 2017 विधानसभा चुनाव से पहले मुख्तार अंसारी की पार्टी कौमी एकता दल का शिवपाल यादव की पहल पर समाजवादी पार्टी में विलय किया गया। अखिलेश यादव ने खासा एतराज जताया था, जिसके बाद उन्हें समाजवादी पार्टी में शामिल नहीं किया गया। इसके बाद मुख्तार अंसारी ने परिवार के साथ बहुजन समाज पार्टी का दामन थाम लिया। मुख्तार अंसारी ने सियासी सफर बहुजन समाज पार्टी से ही शुरू किया था। पिछले पांच विधानसभा चुनाव में लगातार जीत कर विधायक बनते आ रहे हैं। मुख्तार अंसारी 1996 में पहली बार विधानसभा चुनाव में बहुजन समाज पार्टी के उम्मीदवार के तौर पर उतरे और जीत हासिल की। इसके बाद उन्होंने पलटकर नहीं देखा। निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर 2002 और 2007 में चुनाव जीता। इसके बाद 2012 में अंसारी कौमी एकता दल का गठन करके चुनाव मैदान में उतरे और जीत हासिल की। 2017 विधानसभा चुनाव में बसपा से उतरे और मोदी लहर में भी जीतने में कामयाब हुए।

Advertisement

img
img