एक ऐसा रिश्ता जो धरती पर किया जा रहा है साकार

पोलखोल न्यूज़ 1/15/2018 4:58:34 AM
img

इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्‍याहू भारत के ऐतिहासिक दौरे पर हैं। सोमवार को उनके इस दौरे का दूसरा दिन है। सोमवार सुबह उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी के साथ प्रतिनिधिमंडल स्‍तरीय वार्ता की। इस वार्ता में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण भी मौजूद रहीं। इससे पहले राष्‍ट्रपति भवन में नेतन्याहू का औपचारिक स्‍वागत किया गया। नेतन्‍याहू को गार्ड ऑफ ऑनर भी दिया गया। पीएम मोदी अपने दोस्‍त नेतन्‍याहू के इस दौरे को ऐतिहासिक करार दे चुके हैं और पूरी दुनिया की इस दौरे पर नजर है। इससे पहले जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल जुलाई में इजरायल का दौरा किया था तो वह भी एक ऐतिहासिक दौरा था। आइए चलें उसी दौरे के फ्लैशबैक में...

स्वर्ग में बना है भारत-इजरायल का रिश्ता

जुलाई में जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहली बार इजरायल के दौरे पर गए थे उस समय नेतन्याहू ने भी बड़ी ही गर्मजोशी से उनका स्वागत किया था। नरेंद्र मोदी अकेले ऐसे प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने इजरायल का दौरा तो किया। उस वक्त नेतन्याहू ने उनका स्वागत करते हुए कहा कि भारत और इजरायल का यह रिश्ता स्वर्ग में बना और इसे धरती पर साकार किया जा रहा है। वैसे बता दें कि नेतन्याहू भारत से पहले साल 2015 में चीन के लिए भी इन शब्दों का इस्तेमाल कर चुके हैं।

आई फॉर इंडिया, आई फॉर इजरायल

इजरायल के प्रधानमंत्री ने अपने गर्मजोशी भरे भाषण में जो सफलता का मंत्र दिया वह था- आई2 टी2. इसका मतलब उन्होंने इस तरह बताया कि इंडिया टैलेंट टाइम्स इजरायली टेक्नॉलोजी। यह आनेवाले कल के इजरायल-इंडिया संबंध को बराबर करता है। उसके बाद पीएम मोदी इजरायल के राष्ट्रपति रूवेन रिवलिन से भी मिले थे। उन्होंने वहां पर अपनी वहीं बातें दोहराई कि आई फॉर आई का मतलब है इंडिया के लिए इजरायल और इजरायल के लिए इंडिया। उन्होंने कहा कि भारतीय ऐसा महसूस करते हैं कि इजरायल भारत का सच्चा दोस्त है।

मेक विद इंडिया

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वागत भाषण में नेतन्याहू ने उस वक्त यह भी कहा था कि भारत और इजरायल के संबंध में आसमान भी सीमा नहीं है, क्योंकि दोनों देश अंतरिक्ष के क्षेत्र मे अच्छा काम कर नई ऊंचाई हासिल कर रहे हैं। इस यात्रा पर उन्होंने कहा कि आपके इंडिया के कार्यक्रम से हमारी मेक विद इंडिया की पॉलिसी बन रही है।

दोनों देशों के लिए शांति दूत बना मोशे

इजरायल यात्रा के दूसरे दिन पीएम मोदी ग्यारह वर्षीय उस बच्चे मोशे होल्त्जबर्ग से मिले जिनके माता-पिता मुंबई आतंकी हमले में मारे गए और मोशे अपनी नानी की मदद से बच गए थे। और अब वे इजरायल में अपने नाना-नानी के साथ रहते हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने मोशे के कभी भी पूरे परिवार के साथ लंबे समय पर भारत आने के वीज़ा का ऑफर किया। इस बार मोशे इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के साथ भारत आए भी हैं।

इजरायल में रह रहे भारतीयों के लिए ओसीआई कार्ड्स

प्रधानमंत्री मोदी ने इजरायल में रह रहे भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित करते हुए उनसे ओसीआई कार्ड्स (ओवरसीज सिटिजन्स ऑफ इंडिया कार्ड्स) देने का वादा भी किया था। इस कार्ड के जरिए इजरायल में रह रहे भारतीय समुदाय के वो लोग जो इजरायल में मिलिट्री सर्विस में थे, उन्हें भारत में नौकरी की दिक्कत न हो इसके लिए वह कार्ड काफी उपयोगी साबित होगा। उन्होंने दिल्ली और मुंबई से तेलअवीव तक सीधी फ्लाइट का भी वादा किया।

दोस्‍ती के नए युग की शुरुआत

अब इजरायली प्रधानमंत्री भारत दौरे पर हैं तो इस बार स्वागत सत्कार की बारी भारत की है। भारत में उनका उसी गर्मजोशी से स्वागत हुआ, जिस गर्मजोशी से इजरायल में पीएम मोदी का हुआ था। इस मौके पर नेतन्‍याहू ने कहा- यह इजरायल और भारत की दोस्ती के एक नए युग की शुरुआत है। इसकी शुरुआत पीएम मोदी के ऐतिहासिक इजरायल दौरे से हुई थी और यह मेरे भारत दौरे तक जारी है। मैं, मेरी पत्नी और इजरायल के सभी लोग इस दौरे से खुश हैं। हमारी साझेदारी लोगों के लिए खुशहाली, शांति और विकास लाएगी।

जादू की झप्पी से हुआ स्‍वागत

रविवार को जब नेतन्याहू दिल्ली पहुंचे तो प्रोटोकॉल तोड़ते हुए पीएम मोदी खुद उनके स्‍वागत के लिए एयरपोर्ट पहुंच गए। रेड कॉरपेट पर जैसे ही उन्‍होंने कदम रखा, पीएम मोदी ने मुस्‍कुराते हुए उन्‍हें गले लगा लिया। नेतन्‍याहू भी उसी गर्मजोशी के साथ पीएम मोदी का साथ दिया। नेतन्‍याहू के साथ उनकी पत्‍नी सारा भी भारत आई हुई हैं।

नेतन्याहू से उम्मीदें

नेतन्‍याहू की पीएम मोदी के साथ कई अहम मुद्दों पर द्विक्षीय वार्ता कर रहे हैं। कई महत्‍वपूर्ण समझौतों पर मुहर लगने की भी उम्‍मीद है। बताया जा रहा है कि भारत और इजराइल के बीच रक्षा, जल संरक्षण, कृषि, आंतरिक सुरक्षा आदि मसलों पर चर्चा होनी है। दोनों देश के पीएम दूसरे भारत-इजराइल सीईओ फोरम की बैठक में भी शामिल होंगे। पहली सीईओ फोरम की बैठक पीएम मोदी के इजराइल दौर के वक्त हुई थी।

ऐसे स्वागत की उम्मीद न थी

एक तरफ देश की नरेंद्र मोदी सरकार इजरायल के साथ मजबूत होते संबंधों और कई बड़े समझौतों को लेकर उत्‍साहित है, वहीं दूसरी तरफ वामपंथी पार्टियों ने नेतन्‍याहू के भारत दौरे के खिलाफ इंडिया गेट के पास प्रदर्शन किया। वैसे न तो पीएम मोदी को और न ही नेतन्याहू को ऐसे स्वागत की उम्मीद होगी

Advertisement

img
img