यूपी : सीएम योगी ने अपनी सरकार की पहली वर्षगांठ पर जनता के सामने तोहफों की बौछार

पोलखोल न्यूज़, लखनऊ 3/19/2018 4:59:15 AM
img

सरकार के एक वर्ष पूरा होने के उपलक्ष्य में लखनऊ के लोकभवन में मुख्यमंत्री ने समारोह के दौरान मौजूद सभी विधायक व मंत्रियों को संबोधित किया। इस मौके पर राज्यपाल राम नाईक के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक साल नई मिसाल पुस्तक का विमोचन भी किया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हम समाज के हर वर्ग के विकास के लिए कटिबद्ध हैं। उन्होंने कहा कि पता है कि इसके लिए हमारे सामने तमाम बाधाएं भी आएंगी, लेकिन हम इनको भी पार कर लेंगे। हमको इससे पार पाने को कदम मिलाकर चलना होगा। उन्होंने कहा कि सरकार का प्रयास उत्तर प्रदेश के हर वर्ग को बड़ी तरक्की देने का है। इसके लिए हम लोगों को आवास उपलब्ध कराने के साथ ही रोजगार के अवसर तथा साधन उपलब्ध करा रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा हमने अंत्योदय के सपने को साकार करने के लिए एक वर्ष में काम किया। पहली बार दलित के साथ ही वंचित व कमजोर आदमी भी सरकार के एजेंडे का विषय बन सकता है, यह हमने कर दिखाया। पार्टी ने विधानसभा चुनाव से पहले एक लोक कल्याण संकल्प पत्र जारी किया था जो जनता की आकांक्षाओं का द्योतक थी। इससे पहले तो उत्तर प्रदेश की राजनीति भ्रष्टाचार, जातिवाद और परिवारवाद के लिए बदनाम थी। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमारी सरकार आने के बाद पहली बार दलित, वंचित कमजोर आदमी भी सरकार के एजेंडे का विषय बन सकता है, यह हमने दिखाया। उन्होंने कहा कि जब हमने सरकार संभाली तो खजाना खाली था। एक लाख किलोमीटर से ज्यादा सड़क गद्धायुक्त थीं। हमारे पास तो कर्मचारियों को देने के लिए वेतन नहीं था। यहां भर्तियों में रोक लगी थी अदालत से, नौजवान भटक रहे थे। पहली ही कैबिनेट में हमने विपरीत परिस्थितियों के बावजूद किसान को मुख्यधारा से जोडऩे के लिए किसानों का कर्ज माफ किया। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश जैसे राज्य के लिए मुश्किल काम था, लोग मानते थे कि हम जनता पर टैक्स लगा कर इसे पूरा करेंगे। हमने इसके विपरीत अपने खर्चो में कटौती कर ये काम पूरा किया। समर्थन मूल्य के बराबर दाम देना किसान के लिए मुश्किल था। गन्ना किसानों के बकाया का भुगतान कराया। यही नहीं गेहूं 437 लाख मीट्रिक टन, 47 लाख मीट्रिक टन खरीद की। 80 हजार करोड़ लोन के माध्यम से किसान को दिया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना यूपी में लागू नही हो पाई थी। एक वर्ष में 11 लाख गरीबों को आवास दिया। गरीब परिवारों की बच्चियों की शादी नहीं कर पाते थे। हमने पहल करते हुए 35 हजार हर परिवार को दिया। पीएम के स्वच्छ भारत अभियान ने यूपी पीछे था। यूपी की तत्कालीन सरकार रुचि नही लेती थी। हमारी सरकार में एक वर्ष में 37.26 लाख शौचालय, शहरी क्षेत्रों में 4.50 लाख शौचालय दिए। आठ जिले ओडीएफ हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि अक्टूबर 2018 में यूपी के ज्यादातर जिले ओडीएफ होंगे। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश में नकल विहीन परीक्षा की कल्पना नहीं की जा सकती थी। हमने तो यह भी कर दिखाया। नकल कराने के करोड़ों के ठेके होते थे। बेहतरीन तरीके से नकल पर रोक लागू की। इसी का परिणाम रहा कि 12 लाख लोगों ने परीक्षा छोड़ी। जब जांच की गई तो पता चला कि ये लोग यूपी के बाहर के यानी मुन्नाभाई मिले।

Advertisement

img
img