यूपी : शिवपाल यादव और राजा भैया सपा में शामिल होने से सपा समर्थकों के हौसले बढ़े

पोलखोल न्यूज़, लखनऊ 3/22/2018 12:47:59 AM
img

अखिलेश यादव के रात्रिभोज में शिवपाल यादव व निर्दल विधायक रघुराज प्रताप सिंह राजा भैया और विनोद सरोज के शामिल हो जाने से सपा समर्थकों के हौसले बढ़े और नितिन अग्रवाल की बगावत से मिला तनाव कुछ कम हुआ। बुधवार को ताज होटल में आयोजित डिनर पर सबकी निगाहें लगी थी क्योंकि पार्टी दफ्तर में दोपहर को आयोजित बैठक में शिवपाल यादव व आजम खां समेत सात विधायक गैरहाजिर रहे थे परंतु रात्रिभोज में नजारा अलग था। सपा के विधायकों और विधान परिषद सदस्यों के अलावा प्रमुख नेताओं को भी न्योता भेजा गया था। भोज में आजम खां व उनके पुत्र अब्दुला के न आने की वजह रामपुर में व्यक्तिगत कार्य होना बताया गया। भोज में पहुंचे शिवपाल यादव का उन युवा नेताओं ने भी गर्मजोशी से स्वागत किया जो उनके खिलाफ बीते दिनों कटु शब्दों का प्रयोग करने से भी परहेज नहीं करते थे। समाजवादी खेमे के लिए निर्दल राजा भैया और विनोद सरोज का रात्रिभोज में पहुंचना सुकून देने वाला रहा। राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश ने खुद माईक से राजा भैया और विनोद के आने व समर्थन देने की जानकारी देते हुए गैरहाजिर विधायकों के बारे में भी बताया  भोज में पहुंचे शिवपाल यादव का उन युवा नेताओं ने भी गर्मजोशी से स्वागत किया जो उनके खिलाफ बीते दिनों कटु शब्दों का प्रयोग करने से भी परहेज नहीं करते थे। समाजवादी खेमे के लिए निर्दल राजा भैया और विनोद सरोज का रात्रिभोज में पहुंचना सुकून देने वाला रहा। राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश ने खुद माईक से राजा भैया और विनोद के आने व समर्थन देने की जानकारी देते हुए गैरहाजिर विधायकों के बारे में भी बताया। गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीटों पर बसपा के समर्थन से जीत हासिल करने के बाद से समाजवादी पार्टी पर गठबंधन धर्म निभाने का दबाव बढ़ गया है। राज्यसभा में सपा के सहयोग से ही बसपा प्रत्याशी भीमराव अंबेडकर के जीतने की राह आसान हो सकती है। बता दें कि नितिन अग्रवाल की बगावत व हरिओम के जेल में बंद होने से सपा के दो विधायक कम हो रहे थे। ऐसे में राजा भैया व विनोद सरोज का सपा के साथ नजर आना भाजपा की सिरदर्दी का सबब बन सकता है। लोहिया सभागार में बुधवार को प्रात: 11 बजे लोहिया सभागार में मतदान के टिप्स दिए गए। अध्यक्षता कर रहे अखिलेश ने विधायकों से 23 मार्च को मतदान पूरा होने तक लखनऊ में ही ठहरने को कहा। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा की मनमानी के कारण राज्यसभा के लिए मतदान हो रहा है। भाजपा में नैतिकता होती तो राज्यसभा के लिए 9वां उम्मीदवार न उतारती। उनका कहना था कि भाजपा को कदाचार से कोई परहेज नहीं है। सपा व बसपा के उम्मीदवार को वोट आवंटन गुरुवार को किया जाएगा।विधायक दल की बैठक में आजम खां, और शिवपाल के अलावा हरदोई विधायक नितिन अग्रवाल भी नहीं शामिल हुए। बता दे कि नितिन अग्रवाल अपने पिता नरेश अग्रवाल के साथ भाजपा में शामिल होने का फैसला ले चुके है। नितिन का सपा की बैठक में शामिल होने के बजाय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आवास पर पहुंचना खतरे की घंटी है। समाजवादी पार्टी के रात्रिभोज में पहुंचे शिवपाल यादव का स्वागत हुआ जरूर लेकिन, पहले सी बात नजर नहीं आयी। अखिलेश यादव और शिवपाल आसपास बैठे लेकिन, बोलचाल अधिक नहीं हुई। अधिकतर नेता भी शिवपाल से नजदीकी जताने से बचते दिखे। रात्रिभोज में सपा प्रत्याशी जया बच्चन के साथ डिंपल यादव भी रहीं। किरनमय नंदा, रामगोविंद चौधरी, शाहिद मंजूर, विकास यादव, आनंद भदौरिया, राजेंद्र चौधरी, नरेश उत्तम पटेल व अहमद हसन भी सक्रिय दिखे। गुरुवार को भी रात्रिभोज का आयोजन किया गया है, जिसमें सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव व राम गोपाल यादव भी शामिल होंगे। बसपा विधायकों की बैठक व रात्रिभोज गुरुवार को पार्टी मुख्यालय में आयोजित किया जाएगा। इस दौरान बसपा प्रमुख मायावती शामिल होंगी और विधायकों को वोटिंग करने का तरीका भी बताया जाएगा।  

Advertisement

img
img