यूपी : एससी-एसटी एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर कई संगठनों ने विरोध किया, दुकानों में काफी लूटपाट

पोलखोल न्यूज़ ,लखनऊ 4/2/2018 3:28:16 AM
img

एससी-एसटी एक्ट पर देश की शीर्ष अदालत के सुप्रीम कोर्ट के ताजा फैसले के बाद दलित संगठनों ने आज भारत बंद का आह्वान किया है। इस दौरान दलित संगठन के लोग अराजक हो गए। यह लोग विरोध में लाठी-डंडे के साथ सड़क पर उतरे और दुकानों में काफी लूटपाट करने के साथ ही महिलाओं से भी छेड़छाड़ की। एंबुलेंस में फंसे मरीजों के साथ अभद्रता की गई। उधर नरेंद्र मोदी सरकार भी आज सुप्रीम कोर्ट में इस फैसले के खिलाफ रिव्यू पिटीशन दाखिल करेगी। मेरठ, सहारनपुर, हापुड़ और आगरा समेत कई जिलों में प्रदर्शनकारियों ने जमकर उत्पात मचाया। मेरठ व आगरा में दलित संगठनों का उग्र प्रदर्शन जारी है। प्रदर्शनकारियों ने जगह-जगह गाड़ियों में तोड़फोड़ और पथराव किया। प्रदर्शनकारी उग्र हो कर प्रदर्शन कर  रहे हैं। मेरठ में पुलिस पर फायरिंग। कई पुलिसकर्मी बाल-बाल बचे। मेरठ में यात्री बस में आग लगाई। मुजफ्फरनगर में रेलवे स्टेशन पर तोड़फोड़। मेरठ में उग्र प्रदर्शनकारियों ने बसों को आग के हवाले कर दिया। बवाल करते हुए पुलिस और पत्रकारों पर भी हमला कर दिया। हापुड़ में दलित समाज के हजारों लोग सड़कों पर उतारकर उग्र प्रदर्शन कर रहे हैं। प्रदर्शनकारियों ने एक पेट्रोल पंप पर तोड़फोड़ की।सहारनपुर में भी भीड़ ने कई बसों में तोड़फोड़ कर दिया। लखनऊ में भी आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति के कार्यकर्ता काली पट्टी बांधकर कर विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं। दो घंटे घण्टे कार्य बहिष्कार के बाद काली पट्टी बांधकर काम करेंगे। उनकी मांग है कि केंद्र सरकार विशेष सत्र बुलाकर एससी-एसटी एक्ट को मजबूत करे।  मेरठ में दिल्ली -देहरादून  हाईवे पर शोभापुर पुलिस चौकी के बराबर में स्थित हनुमान मंदिर में तोड़फोड़ कर आग लगा दी गई है। कई मीडिया कर्मियों को निशाना बनाया गया। फोटोग्राफर को पीटा गया, कैमरे तोड़ दिए गए हैं।मुजफ्फरनगर में कोच्चि एक्सप्रेस में पथराव। सहारनपुर में दलितों ने दिल्ली यमुनोत्री हाईवे पर लगाया जाम।सहारनपुर के गंगोह में पुलिस की गाड़ी में तोड़फोड़। हापुड़ में ट्रक में लगायी आग। आग बुझाने आयी दमकल गाड़ी पर भी पथराव। बड़ी संख्या में पुलिस कर्मी घायल। एससी-एसटी एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का पश्चिमी उत्तर प्रदेश में दलित संगठन के लोग जमकर विरोध कर रहे हैं। यह लोग सड़क पर उतर आए हैं। कहीं पर सड़कों पर प्रदर्शन हो रहा है तो कहीं पर ट्रेन को रोका गया है। इस प्रदर्शन को देखते हुए प्रदेश सरकार ने सुरक्षा व्यवस्था काफी कड़ी कर दी है। भारत बंद के आह्वान को देखते हुए प्रदेश सरकार हर जिले में सतर्कता बरत रही है। इसके बाद भी पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मेरठ तथा आगरा व मैनपुरी में दलित संगठन से जुड़े लोग सड़क पर उतर आए हैं। कई जगह पर प्रदर्शनकारी ट्रेन के सामने खड़े हो गए हैं।  मेरठ में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ सड़क पर उतरे दलित समाज के लोगों ने जमकर उत्पात मचाया है। इन लोगों ने दुकानों में तोडफ़ोड़ करने के साथ उनमें रखा सामान लूट लिया है। बसों को आग के हवाले करने के साथ ही जो रास्ते में आया उसी को अपना निशाना बनाया। इन्होंने लोगों को लाठी-डंडे से घायल किया। इस दौरान राहगीरों से लूटपाट तथा महिलाओं से छेड़छाड़ की गई। आज मेरठ-दिल्ली रोड पर एससी-एसटी एक्ट में फैसले के विरोध में दलितों ने बड़ी संख्या में जुलूस निकाला। यह सभी लोग हाथ में डंडा लेकर रेलवे रोड के साथ केशर गंज महताब में दुकानें बंद करा रहे थे। मेरठ में भारत बंद को लेकर डीएम कार्यालय के दरवाजे बंद। करीब एक हजार के करीब लोगों की भीड़ कार्यालय के बाहर जुटी। एमजी रोड पर लगा जाम कलेक्ट्रेट से धाकरान चौराहे के आगे तक लगे जाम में फंसे कर्मचारी सहित अन्य लोग। आगरा में दिल्ली से बेंगलुरु को जाने वाली कर्नाटका एक्सप्रेस को बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारियों ने आगरा आउटर पर रोका। आगरा में हाथरस रोड पर टेढ़ी बगिया पर जाम और हंगामे में फंसे एम्बुलेंस समेत दर्जनों वाहन। दुकानें बंद होने से जाम में फंसे लोगों को पानी भी नहीं मिल पा रहा है। आगरा में भारत बंद के एलान के बाद सुबह से ही विरोध-प्रदर्शन शुरू हो गया था। बसपा के कार्यकर्ता यहां शहर के सभी बाजारों में भीड़ जबरन बाजार बंद करा रही है। शाहगंज क्षेत्र के बारह खंभा के पास लोग रेलवे ट्रैक पर बैठ गए। इसके साथ ही यहां एत्माद्दौला के टेढ़ी बगिया में चक्का जाम किया गया है। करीब एक घण्टे से जाम के चलते रामबाग तक बड़ी संख्या में वाहनों की कतार लग गई है। एम्बुलेंस और स्कूली वाहन भी जाम में फंसे है। ट्रांस यमुना कॉलोनी और हाथरस रोड पर लोग जबरन बाजार बंद करा रहे हैं। यहां पर भीड़ काफी अराजक हो गई है। यह लोग सभी के साथ मनमानी कर रहे हैं। शहर के विभिन्न क्षेत्रों में सड़क पर भीड़ उतर गई है। यहां पर लोग जबरदस्ती दुकाने बंद करा रहे हैं। बाजार खुलने से पहले ही बाजारों में अराजकता का माहौल है। सड़क पर उतरे लोग सड़क और रेल यातायात भी बाधित करने में लग गए हैं। एससी-एसटी एक्ट के समर्थन में डॉक्टर भीमराव अंबेडकर बार एसोसिएशन के बैनर तले अधिवक्ताओं ने शहर की कुसमरा क्रासिंग पर भी काफी प्रदर्शन किया। एससी-एसटी एक्ट पर फैसले का आगरा में भी कई संगठनों ने काफी विरोध किया है। जगह-जगह पर इसको लेकर प्रदर्शन हो रहा है। यहां पर भारत बंद को लेकर पुलिस काफी सतर्क है। फीरोजाबाद में एससी एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ भारत बंद के दौरान पचोखरा में बवाल हो गया। यहां पर लोगों ने जबरिया बाजार बंद करवाकर दुकान में की तोडफ़ोड़ करने के साथ मोदी-योगी मुर्दाबाद के नारे लगाए। शहर में अराजकता का माहौल है। यहां नारखी में पेड़ को सड़क पर रखकर रोड जाम किया। यहां पर लोगों ने बाबा साहब अंबेडकर का नाम बदलने पर भी ऐतराज जताया। भीड़ में सैकड़ों की संख्या में महिला पुरुष हैं। सभी हाथों में लाठी डंडे लेकर चल रहे हैं। यहां टूंडला में भी बवाल के आसार है। फीरोजाबाद शहर में भीड़ ने बाजार बंद कराया। अलीगढ़ में दलित समाज के लोगों में रोष है। दलित संगठनों के भारत बंद के आह्वान के चलते विजयगढ़ में में समाज के अनेक लोगों ने जाटवान चौराहे पर प्रदर्शन किया और धरना दिया। इसके अलावा जुलूस निकाला गया। जुलूस जाटवान चौराहे से शुरू होकर थाने की ओर गया है। यहां समाज के लोग सुबह से ही एकत्रित होने लगे थे। पहले बैठक की और फिर प्रदर्शन शुरू कर दिया। इस दौरान जुलूस का निर्णय लिया गया। इसकी जानकारी के बाद चौराहे पर पुलिस पहुंच गई। जुलूस में शामिल लोग नारेबाजी करते हुए चल रहे हैं। मुरादाबाद में दलित संगठन से जुड़े लोग सड़क पर उतर आए। आरक्षण के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी से नाराज दलितों ने शहर के विभिन्न क्षेत्रों में मार्ग जाम कर प्रदर्शन किया। इसके तहत अंबेडकर युवक संघ का कांठ रोड पर प्रदर्शन जारी है। अंबेडकर पार्क में दलित समाज के पहुंचने का क्रम जारी है। जगह जगह प्रदर्शन व जाम से शहर में आवागमन बाधित है। बाजार बंद कराने की भी कोशिश हो रही है। चन्‍दौसी में दलितों ने बाजार बंद कराया। इस दौरान व्‍यापारियों से नोकझोक भी हुई। जुलूस में में काफी संख्‍या में लोग शामिल हुए। जुलूस खुर्जा गेट से शुरू होकर बृह्मबाजार, घंटाघर होते हुए फव्वारा चौक पहुंचा। इसके बाद एसडीएम कार्यालय पहुंचकर लोगों ने वहीं धरना दे दिया। सुरक्षा व्यवस्था के लिए पुलिसबल तैनात रहा। अलीगढ़ शहर में वाल्मीकि समाज शीशियापाड़ा से मौन जुलूस निकालकर कलक्ट्रेट पर प्रदर्शन करेगा। बाद में राष्ट्रपति के नाम डीएम को ज्ञापन दिया जाएगा। बसपा के पूर्व कोऑर्डिनेटर ऋषि चौहान व वाल्मीकि सेना के प्रदेश अध्यक्ष आनंद शास्त्री ने कहा कि कोर्ट ने एससी-एसटी एक्ट को निष्प्रभावी किया गया है। इससे वाल्मीकि समाज खुद को असुरक्षित कर रहा है। सेना के जिलाध्यक्ष बिल्लू चौहान ने कहा कि यह सशक्त प्रदर्शन होगा। समता सैनिक दल ने भी एससी व एसटी कानून को निष्प्रभावी बनाने पर आपत्ति की है। साथ ही भारत बंद का समर्थन किया है। दल के दर्शन सिंह ने कहा दोपहर 12 बजे घंटाघर स्थित आंबेडकर पार्क से ज्ञापन देने के लिए दलित समाज के लोग रवाना होंगे। भारत बंद के आह्वन का शहर के किसी भी व्यापारी संगठन ने समर्थन नहीं किया है। उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल के महानगर अध्यक्ष प्रदीप गंगा ने कहा कि किसी भी संगठन ने बंदी का समर्थन नहीं किया है। मुरादाबाद में दलित संगठन से जुड़े लोग सड़क पर उतर आए। आरक्षण के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी से नाराज दलितों ने शहर के विभिन्न क्षेत्रों में मार्ग जाम कर प्रदर्शन किया। इसके तहत अंबेडकर युवक संघ का कांठ रोड पर प्रदर्शन जारी है। अंबेडकर पार्क में दलित समाज के पहुंचने का क्रम जारी है। जगह जगह प्रदर्शन व जाम से शहर में आवागमन बाधित है। बाजार बंद कराने की भी कोशिश हो रही है। चन्‍दौसी में दलितों ने बाजार बंद कराया। इस दौरान व्‍यापारियों से नोकझोक भी हुई। जुलूस में में काफी संख्‍या में लोग शामिल हुए। जुलूस खुर्जा गेट से शुरू होकर बृह्मबाजार, घंटाघर होते हुए फव्वारा चौक पहुंचा। इसके बाद एसडीएम कार्यालय पहुंचकर लोगों ने वहीं धरना दे दिया। सुरक्षा व्यवस्था के लिए पुलिसबल तैनात रहा। अलीगढ़ शहर में वाल्मीकि समाज शीशियापाड़ा से मौन जुलूस निकालकर कलक्ट्रेट पर प्रदर्शन करेगा। बाद में राष्ट्रपति के नाम डीएम को ज्ञापन दिया जाएगा। बसपा के पूर्व कोऑर्डिनेटर ऋषि चौहान व वाल्मीकि सेना के प्रदेश अध्यक्ष आनंद शास्त्री ने कहा कि कोर्ट ने एससी-एसटी एक्ट को निष्प्रभावी किया गया है। इससे वाल्मीकि समाज खुद को असुरक्षित कर रहा है। सेना के जिलाध्यक्ष बिल्लू चौहान ने कहा कि यह सशक्त प्रदर्शन होगा। समता सैनिक दल ने भी एससी व एसटी कानून को निष्प्रभावी बनाने पर आपत्ति की है। साथ ही भारत बंद का समर्थन किया है। दल के दर्शन सिंह ने कहा दोपहर 12 बजे घंटाघर स्थित आंबेडकर पार्क से ज्ञापन देने के लिए दलित समाज के लोग रवाना होंगे। भारत बंद के आह्वन का शहर के किसी भी व्यापारी संगठन ने समर्थन नहीं किया है। उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल के महानगर अध्यक्ष प्रदीप गंगा ने कहा कि किसी भी संगठन ने बंदी का समर्थन नहीं किया है। भारत बंद के ऐलान का मथुरा में असर दिखाई नहीं दिया। इस दौरान सफाई कर्मी जरूर हड़ताल  पर रहे। सफाई कर्मी भरतपुर गेट से एक रैली निकालेंगे। एससी/एसटी एक्ट में बदलाव के खिलाफ कदम उठाने की मांग को लेकर कांग्रेस ने कहा कि दलितों और आदिवासियों के खिलाफ देश भर में अत्याचार के मामले बढ़े हैं जबकि एससी/एसटी एक्ट कमजोर हुआ है। राष्ट्रपति ने हमारी बातों को ध्यान से सुना। उन्होंने कहा कि वह इस मामले को देखेंगे। केंद्र सरकार एससी-एसटी एक्ट के संशोधन को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट में रिव्यू पिटीशन दायर करेगी। इससे पहले एनडीए के दलित सांसद और लोजपा प्रमुख राम विलास पासवान और केंद्रीय सामाजिक न्याय मंत्री थावरचंद गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर मामले में पुनर्विचार याचिका दायर करने की अपील की थी। यूपी के सभी जिला में एलर्ट जारी कर दिया गया। प्रमुख सचिव गृह अरविन्द कुमार ने सभी जिलों के डीएम और एसपी को आदेश जारी करते हुए कहा कि आगजनी व तोड़फोड़ पर सख्ती से निपटे। प्रदर्शन के दौरान बवाल होने से रोकें और शांति से मामले को निपटाएं। यूपी पुलिस के डीजीपी ओपीसिंह ने कहा है कि पुलिस को हाई अलर्ट पर कर दिया गया है। उन्होंने कहा कोई भी कानून हाथ मे न ले, शांतिपूर्ण प्रदर्शन पर कोई पाबंदी नहीं है। डीजीपी ने सभी पुलिस अधिकारियों को फील्ड में निकलने के आदेश के साथ अतिरिक्त फोर्स तैनात करने के लिए निर्देशित किया है। आगरा में एससी आयोग के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं सांसद रामशंकर कठेरिया ने दलित समाज के लोगों से शांति बनाये रखने की अपील की है। उन्होने बताया कि एससी एसटी के मुद्दे पर भारत सरकार बहुत गंभीर है। सरकार जल्दी ही सुप्रीम कोर्ट में रिव्यू पिटीशन दाखिल करने  जा रही है।

Advertisement

img
img