यूपी : अक्षय तृतीया पर्व से पहले प्रदेश के बड़े शहरो के साथ गांवों में एटीएम कैशलेस, लोग परेशान

पोलखोल न्यूज़, लखनऊ 4/17/2018 5:53:46 AM
img

अक्षय तृतीया पर्व की पूर्व संध्या के साथ ही विवाह के मौसम में आज प्रदेश के बड़े शहर के साथ ही गांवों में एटीएम कैशलेस हैं। लोग विवाह तथा अन्य जरूरी कार्य में कैश पेमेंट न कर पाने से काफी परेशान तथा व्याकुल होकर घूम रहे हैं। बाजार में भी काफी हाहाकार मचा है। प्रदेश में राजधानी लखनऊ समेत वाराणसी, आगरा, कानपुर इलाहाबाद और अन्य जिलों में एटीएम मशीनों में कैश की किल्लत की वजह से सहालग के मौसम में लोगों की परेशानियों को बढ़ा दिया है। लखनऊ के हजरतगंज, गोमतीनगर, आलमबाग और अलीगंज के दर्जनों एटीएम में कैश नहीं है। यहां पर एटीएम में कैश की किल्लत से आम लोग एक से दूसरे एटीएम के चक्कर लगाते नजर आ रहे हैं। आज एटीएम में कैश की बढ़ी किल्लत के बावजूद बैंको ने अभी तक कोई बड़ा कदम नहीं उठाया है। कमोबेश, यही स्थिति इलाहाबाद, वाराणसी, कानपुर, आगरा, मेरठ गोरखपुर में भी देखने को मिल रही है। अक्षय तृतीया के साथ ही विवाह के मौसम में लोग खरीददारी के लिए एटीएम के चक्कर लगाते फिर रहे हैं। वाराणसी में भी लोग एक एटीएम से दूसरे एटीएम को चक्कर लगते नजर आए। किसी को बच्चे की फीस जमा करनी है तो किसी को खरीददारी करनी है। एटीएम में कैश न होने की वजह से लोग परेशान दिखे। इस दौरान एटीएम तो खुले मिले, लेकिन उनमें कैश नहीं था। कई के सामने मशीन खऱाब है का बोर्ड लगा था वाराणसी के सिगरा स्थित एटीएम पर जब टीम पहुंची तो पाया कि लोग निराश होकर लौट रहे हैं। सुरक्षा गार्ड की माने तो मशीन खराब है, लेकिन सच यही है कि मशीन में पैसे ही नहीं हैं। ऐसा सिर्फ एक जगह नहीं है, बल्कि वाराणसी के कई ऐसे एटीएम हैं, जहां मशीन तो रहती है लेकिन इसमें पैसे नहीं होते। ताजनगरी आगरा में भी एटीएम खाली हैं और जरूरतमंद रुपयों की तलाश में इधर-उधर भटक रहे हैं। पिछले चार दिनों से अधिकतर एटीएम में पैसे नहीं है। लोग एक एटीएम से दूसरे एटीएम जाकर निराश हो रहे हैं। एटीएम में कैश की किल्लत क्यों आई है इसका किसी के पास जवाब नहीं है। संगम नगरी इलाहाबाद में भी एटीएम में कैश को लेकर बड़ी समस्या खड़ी हो गई है। यहां पर सहालग के सीजन में एटीएम कैशलेस हो जाने से लोगों की मुसीबतें भी बढ़ गई हैं। हालत यह है कि लोगों को बैंकों के एटीएम से पैसे निकालने के लिए शहर के एक कोने से लेकर दूसरे कोने का चक्कर लगाना पड़ रहा है। जिसके बाद भी लोगों को जरुरत के मुताबिक पूरा कैश नहीं मिल पा रहा है। लोगों का कहना है कि ग्रामीण बैंकों में भी कैश की भारी किल्लत है। जिससे ग्रामीण बैंक के उपभोक्ताओं को कैश नहीं मिल पा रहा है। शहर में सरकारी बैंकों के एटीएम में कैश की हालत ज्यादा खराब है। प्राइवेट बैंकों में लगे एटीएम की स्थिति सरकारी बैंकों के एटीएम से थोड़ी बेहतर जरुर है। कैश की किल्लत का खासा असर कानपुर में भी दिखा, यहां ज्यादातर एटीएमो में कैश नहीं है। कहीं एटीएम बन्द पड़ा है तो किसी से पैसे नहीं निकल रहे। यहां पर भी लोग एटीएम में आ रहे हैं और निराश होकर वापस लौट रहे हैं। 


Advertisement

img
img