यूपी : केजीएमयू के ट्रामा सेंटर में मरीजों का होगा नि:शुल्क इलाज

पोलखोल न्यूज़, लखनऊ 4/19/2018 12:12:01 AM
img

केजीएमयू के ट्रामा सेंटर में मरीजों का मुफ्त इलाज होगा। इसके लिए नेशनल हेल्थ मिशन व राज्य सरकार से बजट की माग की गई है। कुलपति ने वर्ष 2018 से ही सभी मरीजों को इमरजेंसी में नि:शुल्क इलाज मुहैया कराने का दावा किया है। कुलपति प्रो. एमएलबी भट्ट ने एक वर्ष कार्यकाल पूरा होने पर भविष्य की कार्ययोजनाओं की जानकारी दी। इस दौरान उन्होंने कहा कि सभी मरीजों को इमरजेंसी सुविधाएं मुफ्त मुहैया कराई जाएंगी। इसमें गरीबी रेखा की बाध्यता नहीं होगी। ऐसे में ट्रामा सेंटर में इलाज नि:शुल्क होगा। इसके लिए नेशनल हेल्थ मिशन (एनएचएम) व राज्य सरकार को प्रस्ताव बनाकर भेज दिया गया है। विश्वविद्यालय ने 25 करोड़ रुपये बजट की माग की है। इसके अलावा उन्होंने कहा कि ट्रामा में आने वाले मरीजों के ऑपरेशन और फ्रैक्चर के मरीजों में इंप्लाट फ्री में डाले जाएंगे। इसके अलावा आइसीयू सेवा व दवाएं भी मुफ्त मिलेंगी। मरीजों से पैथोलॉजी और रेडियोलॉजी जाच के भी कोई पैसे नहीं लिए जाएंगे। फ्री होंगे ऑपरेशन और इंप्लाटकेजीएमयू के कुलपति प्रो. एमएलबी भट्ट ने कहा कि ट्रामा में आने वाले मरीजों के ऑपरेशन फ्री होंगे। वहीं, फ्रैक्चर के मरीजों में इंप्लाट फ्री में पड़ेंगे। इसके अलावा आइसीयू सेवा व दवाएं भी मुफ्त होंगी। मरीजों से पैथोलॉजी व रेडियोलॉजी जाच के भी कोई पैसे नहीं लिए जाएंगे। कुलपति ने दावा किया वर्ष 2018 में हर हाल में ट्रामा में मरीजों को मुफ्त इलाज मिलने लगेगा। इसके लिए सरकार से बजट न मिलने पर विश्वविद्यालय इंटरनल बजट से व्यवस्थाएं जुटाएगा। केजीएमयू में हर वर्ष 40 से 50 करोड़ की आय होती है। ऐसे में फिर मामला हॉस्पिटल एडवाइजरी के पास भेजा जाएगा, जोकि ट्रामा में सभी को मुफ्त इलाज की अवधि तय करेगी। इसमें निश्चित होगा कि ट्रामा में कितने दिन तक भर्ती रहने पर मुफ्त इलाज की सुविधा मिलेगी। वहीं सरकार से सहायता मिलने पर अवधि का कोई मामला नहीं रहेगा। ट्रामा में हर रोज 250 से 300 मरीज आते हैं। वहीं इनमें 110 से लेकर 125 तक मरीज भर्ती होते हैं। वर्ष 2018 में इन सेवाओं के शुरू करने का दावा शताब्दी में निर्माणाधीन ट्रासप्लाट यूनिट को पूरा कर ट्रासप्लाट शुरू करना

50 से 60 बेड की बर्न यूनिट को मई तक शुरू करनास्किल इंस्टीट्यूट में नए कोर्सो को शुरू करना

एमडी,एमएस, डीएम, एमसीएच कोर्सो की सीटों को बढ़ाना

अमृत फार्मेसी के पाच नए काउंटर खोलना 

फैमिली मेडिसिन, जीरियाटिक मेडिसिन, मेडिकल अंकोलॉजी विभाग को शुरू करना।

Advertisement

img
img