यूपी : वैन हादसे में 16 बच्चों सहित दो वैन के चालक तथा एक महिला की मौत हो गई

पोलखोल न्यूज़, लखनऊ 4/26/2018 1:09:47 AM
img

उत्तर प्रदेश में मानवरहित रेलवे क्रासिंग पर भले ही गेट मित्र तैनात हों, लेकिन दबंगों के आगे वह लोग असरदार साबित नहीं हो रहे हैं। कुशीनगर में भी आज गेट मित्र ने स्कूल की वैन को गेट पार करने से रोकने का प्रयास किया लेकिन ईयर फोन लगाकर मस्त चालक ने उसकी अनदेखी कर दी। प्रदेश के भदोही में भी करीब दो वर्ष पहले इसी तरह के हादसे में दस बच्चों ने जान गंवा दी थी। चालक ईयरफोन लगाकर वैन को क्रासिंग पार करा रहा था, उसी दौरान ट्रेन ने टक्कर मार दी। आज एक बार फिर मानव रहित रेलवे कॉसिंग पर बड़ा हादसा सामने आया है। कुशीनगर के दुदही रेलवे क्रासिंग पर स्कूल वैन (टाटा मैजिक) ट्रेन की चपेट में आ गई। इस हादसे में 16 बच्चों सहित दो वैन के चालक तथा एक महिला की मौत हो गई। घायल सात बच्चों में तीन की हालत बेहद गंभीर है। जुगाड़ से यहां पर मालवाहक को स्कूल वैन में बदलकर 12 लोगों के बैठने की जगह में 20 लोगों को बैठाया गया। उसके बाद चालक का ईयरफोन लगाकर वैन को काफी तेज गति से चलाना इस हादसे का कारण बन गया।अब इस हादसे के बाद से एक बार फिर सवाल उठने लगे हैं कि आखिर इसमें किसकी लापरवाही है। मानव रहित रेलवे फाटक पर इससे पहले भी ऐसे हादसे सामने आते रहे हैं। इस हादसे में लोग स्कूल वैन के ड्राइवर की लापरवाही का जिक्र कर रहे हैं। ऐसा बताया जा रहा है कि स्कूल वैन के ड्राइवर ने सामने से आती ट्रेन को देखने के बावजूद भी जल्दबाजी के चक्कर में कॉसिंग पार करनी चाहा।इस हादसे के बाद से रेलवे प्रशासन की लापरवाही का भी जिक्र हो रहा है। लोगों को कहना है कि मानव रहित फाटक होने की वजह से हादसा हुआ। अगर यहां कोई क्रॉसिंग होती तो इतना बड़ा हादसा न होता। रेलवे के मुताबिक, इस कॉसिंग पर गेट मित्र को लगाया गया था। उसने स्कूल वैन को रोकने की कोशिश भी की, लेकिन वैन के ड्राइवर ने उसको अनदेखा कर दिया। इस मामले में अभी जांच होनी है और उसके बाद ही असल लापरवाही का पता चल सकेगा। 

Advertisement

img
img