डाक कांवड़ के आने से हरिद्वार में बौनी हुई व्यवस्थाएं

पोलखोल न्यूज़ 7/30/2016 2:16:42 AM
img

दो दिनों में डाक कांवड़ वाहनों का रेला उमड़ा कि हरिद्वार जिला और पुलिस प्रशासन की व्यवस्थाएं धरी की धरी रह गई। बैरागी कैंप की विशाल पार्किंग भी छोटी पड़ गई। शहर की हर सड़क और गलियों में डाक कांवड़ वाहन खड़े हैं। शुक्रवार तक तीस हजार बड़े और करीब एक लाख दोपहिया वाहन हरिद्वार पहुंच चुके थे। धर्मनगरी डाक कांवड़ वाहनों के पैक होने से निकासी करवानी मुश्किल हो गई। बैरागी कैंप में पहले से खड़े वाहन वहीं फंसे हैं। ऐसे में कांवड़ियों का वापसी का मुहूर्त भी निकल गया। शहर में दो दिन से दिल्ली, पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों से आ रहे डाक कांवड़ियों के वाहन की कतार नहीं टूट रही है। बैरागी कैंप पार्किंग भर चुकी है। बैरागी कैंप में दूर तक डाक कांवड़ के वाहनों का जाम दिनभर लगता रहा। इस बीच हाईवे पर भीड़ बढ़ने से बचाने के लिए पुलिस ने बड़ी संख्या में वाहनों को पार्किंग से बाहर नही नहीं निकलने दिया। बड़ी संख्या में कांवड़ियों के वाहन पार्किंग में ही फंसे हुए हैं। पंजाब और हरियाणा के कई कावंड़ियों ने आरोप लगाया कि उन्हें बीती रात निकलना था, लेकिन पुलिस ने उनके वाहन निकलने ही नहीं दिए। बैरागी कैंप क्षेत्र के सुपर जोन प्रभारी सुरजीत पंवार ने बताया कि कुछ वाहन चालकों को इसलिए रोका गया है क्योंकि उन्होंने पुलिस द्वारा तय किए गए रूट का उल्लंघन किया। अब इन्हें रात में ही छोड़ा जाएगा। इधर रोड़ी बेलवाला और पंतद्वीप क्षेत्र मे बनाई गई पार्किंग दोपहिया वाहनों से पूरी तरह भर गई है। मेला क्षेत्र से इतर शहर में भी डाक कांवड़ियों के वाहन स्थानीय लोगों के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं। तमाम कोशिश के बाद भी पुलिस सभी वाहनों को पार्किंग स्थलों पर नहीं भेज पा रही है। डाक कांवड़ वाहन कनखल, मायापुर, ज्वालापुर आदि की दर्जनों कालोनियों में गलियों और लोगों के घरों के सामने पार्क कर दिए गए। एसएसपी राजीव स्वरूप ने बताया कि डाक कांवड़ वाहनों की निकासी सही ढंग से हो यही कोशिश की जा रही है। हाईवे के किनारे पार्किंग न हो इस पर जोर दिया जा रहा है।

Advertisement

img
img