धार्मिक पर्व कराने के लिए एक अलग प्रशासनिक विंग बनाएगी सरकार

पोलखोल न्यूज़ 8/21/2016 11:30:32 PM
img

हरिद्वार में महाकुंभ और अर्धकुंभ ही नहीं बल्कि वर्षभर श्रद्वालु और मां गंगा के भक्तों का सैलाब उमड़ता है| हरिद्वार में जब भी महाकुंभ और अर्धकुंभ का समय आता है तो राज्य आनन फानन में सरकार इसकी तैयारियों में जुटती है| इसके लिए अधिकारियों की नियुक्ति और बजट के इंतजाम के साथ केन्द्र से मदद की गुहार लगाई जाती है| विभिन्न स्थाई और अस्थाई कार्य शुरू हो जाते है, लेकिन अब राज्य सरकार कुंभनगरी क्षेत्र ढाचागत सिस्टम तैयार करने जा रही है, जो महाकुंभ और अर्धकुंभ सहित वर्ष भर आयोजित होने वाले मेलों और प्रमुख स्नानों को संचालित करने का जिम्मा संभालेगी| अब राज्य सरकार इसके लिए अलग विंग बनाने की तैयारी कर रही है जो सिर्फ कुंभनगरी में आयोजित होने वाले छोटे बड़े आयोजनों जिम्मा देखेगी| अर्धकुंभ के दौरान मेलाधिकारी की जिम्मेदारी संभाल चुके एसए मुरुगेशन कहते है कि कुंभनगरी में महाकुंभ, अर्धकुंभ, कांवड़ मेला सहित प्रमुख स्नानों का स्वरूप व्यापक होता जा रहा है| सुरक्षा व्यवस्था, मूलभूत सुविधाएं और क्राउड कंट्रोल के लिए प्रशासन और विभागों की बड़ी टीम इसमें तैनात की जाती है, साथ ही कई विकास कार्यो को भी संचालित किया जाता है| मुरुगेशन मानते है कि हरिद्वार में बडे आयोजन के लिए एक अलग विंग की स्थापना बेहद जरूरी है| राज्य सरकार जब भी महाकुंभ और अर्धकुंभ का समय आता है तो हरिद्वार में बडे पैमाने पर विकास कार्य करवाती है जिसमें घोटालों और घटिया निर्माण की खबरें हमेशा सामने आती हैं| यहां एक बैठक में मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि कुंभनगरी में सभी छोटे बड़े आयोजन के लिए अलग विंग की जरूरत महसूस की जा रही है. जो सभी विभागों के साथ सामजस्य स्थापित कर ढाचागत सुविधाओं के विकास और सुरक्षा व्यवस्था के लिए जवाबदेही हो और वर्ष भर इस कार्य में जुटी रहें| इससे बड़े आयोजन से पहले विभागों की गतिशीलता भी बनी रहेगी और सभी कार्य समय पर पूरे हो सकेंगे| अब राज्य सरकार इसके लिए अलग मैकेनिज्म तैयार कर इन सभी दिक्कतों को खत्म करने जा रही है| अगर ऐसा होता है तो निश्चित तौर पर कुंभनगरी में आयोजित होने वाले सभी आयोजन में व्यवस्थाएं और सुविधाएं ज्यादा बेहतर नजर आएंगी|

Advertisement

img
img