सोनिया गांधी ने उत्तराखंड के नेताओं को आपात बैठक के लिए बुलाया

पंकज राणा, पोलखोल न्यूज़, देहरादून 8/21/2016 11:44:45 PM
img

उत्तराखंड में हाल ही में राजनीतिक उथल-पुथल को गंभीरता से लेते हुए कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व ने दिल्ली में 24 अगस्त को पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी की उपस्थिति में समन्वय समिति की बैठक बुलाई है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने पुष्टि करते हुए कहा कि शीर्ष राज्य के नेताओं, सीएम हरीश रावत और वह खुद बैठक में मौजूद रहेंगे, जिसमें हाल के कुछ प्रमुख मामलों को उठाया जाएगा। सूत्रों के अनुसार, कांग्रेस अध्यक्ष ने रावत और उपाध्याय के खेमे में अंदरूनी कलह को रोकने के लिए यह बैठक बुलाई है।18 मार्च से सत्तारूढ़ पार्टी के लिए मुसीबतों का दौर खत्म होता नहीं दिख रहा, जब पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा के नेतृत्व में नौ विधायकों ने विधानसभा में बगावत कर दी थी। अब दस पूर्व कांग्रेस विधायक भाजपा में हैं और उन्होंने विद्रोह का कारण राज्य में विकास की कमी बताया। जून में, गढ़वाल क्षेत्र से कई नेताओं ने आरोप लगाया कि उन्हें सरकार में पदों के साथ पार्टी में नजरअंदाज कर दिया गया है। रावत के करीबी सहयोगी और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने भी कहा था कि राज्य से एकमात्र राज्यसभा सीट के लिए कुमाऊं से एक दलित नेता प्रदीप टमटा को चुनने के लिए वह मुख्यमंत्री से नाखुश हैं। दस मई को विधानसभा में फ्लोर टेस्ट के दौरान कांग्रेस सरकार के पक्ष में मतदान करने वाले और हाल में राज्य अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास परिषद के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे चुके भीमलाल आर्य ने कहा कि वह सीएम रावत की राजनीतिक कार्रवाई से निराश हैं और अपने निर्वाचन क्षेत्र में विकास को नजरअंदाज करके वह पद का लाभ नहीं ले सकते। पार्टी के अंदरूनी सूत्रों का कहना है कि 2017 चुनाव के सपने के लिए कांग्रेस की अंदरूनी कलह सबसे बड़ा खतरा है। राज्य समन्वय समिति की बैठक में प्रदेश प्रभारी अंबिका सोनी, वित्त मंत्री इंदिरा हृदयेश, राज्य के गृह मंत्री प्रीतम सिंह व अन्य वरिष्ठ नेताओं के उक्त मुद्दे पर चर्चा होने की उम्मीद है।

Advertisement

img
img